Noble Prize 2021: डेविड जूलियस और अर्देम पटापाउटियन को मेडिसिन कैटेगरी में किया सम्मानित

दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित अवार्ड्स में से एक नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize) का ऐलान हो गया है. डेविड जूलियस (David Julius) और अर्देम पटापाउटियन (Ardem Patapoutian) ने तापमान और स्पर्श के लिए रिसेप्टर्स की खोज करने पर फिजियोलॉजी या मेडिसिन (Physiology or Medicine Nobel Prize) में नोबेल पुरस्कार 2021 (Nobel Prizes 2021) जीता है.

फिजियोलॉजी या मेडिसिन नोबेल पुरस्कार दोनों लोगों को संयुक्त रूप से दिया गया है. 2021 के नोबेल पुरस्कारों (2021 Nobel Prize) में से पहले पुरस्कारों की घोषणा की गई है.

स्टॉकहोम (Stockholm) में करोलिंस्का संस्थान (Karolinska Institute) में एक पैनल द्वारा पुरस्कारों की घोषणा की गई. पिछले साल मेडिसिन में ये पुरस्कार तीन वैज्ञानिकों को उनकी खोज के लिए दिया गया था. इन वैज्ञानिकों ने लीवर को खराब करने वाले हेपेटाइटिस सी वायरस (Hepatitis C virus) की खोज की थी. ये एक ऐसी सफलता थी, जिसकी वजह से इस जानलेवा बीमारी का इलाज करना आसान हुआ और ब्लड बैंकों (Blood Banks) के माध्यम से इस बीमारी को फैलने से रोकने के लिए परीक्षण किए गए. बता दें कि नोबेल पुरस्कार कई कैटेगरी में दिए जाते हैं.

मानव जाति को जिस खोज से हुआ लाभ, उस कैटेगरी में दिया जाता है पुरस्कार

करोलिंस्का इंस्टिट्यूट में फिजियोलॉजी के प्रोफेसर और नोबेल असेंबली के सदस्य जूलीन जीराथ ने प्रतिष्ठित पुरस्कार के लिए नामांकन की जानकारी देते हुए कहा, ‘फिजियोलॉजी या मेडिसिन में नोबेल पुरस्कारों के लिए क्राइटीरिया बनाते समय अल्फ्रेड नोबेल (Alfred Nobel) अपनी इच्छा में बहुत स्पष्ट थे. उन्होंने विशेष रूप से कहा कि वह एक ऐसी खोज की तलाश में थे जिससे मानव जाति को लाभ हो, इसलिए हमारे मानदंड बहुत संकीर्ण हैं. हम एक ऐसी खोज की तलाश कर रहे हैं जिसने या तो दरवाजे खोल दिए हों और किसी समस्या के बारे में नए तरीके से सोचने में हमारी मदद की हो, या खोज ने किसी समस्या के बारे में हमारे सोचने के तरीके को बदल दिया हो.’

पुरस्कार जीतने पर मिलती है इतनी राशि

प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कार में एक स्वर्ण पदक दिया जाता है. साथ ही एक करोड़ स्वीडिश क्रोनर दिए जाते हैं, जिसका भारतीय करेंसी में 8.50 करोड़ रुपये होता है. पुरस्कार की राशि इसके निर्माता और स्वीडिश आविष्कारक अल्फ्रेड नोबेल द्वारा छोड़ी गई वसीयत से आता है. अल्फ्रेड नोबेल की मृत्यु 1895 में हो गई थी. वहीं, अन्य पुरस्कार फिजिक्स, केमेस्ट्री, साहित्य, शांति और अर्थशास्त्र के क्षेत्र में बेहतर काम करने के लिए दिए जाते हैं. आने वाले एक हफ्ते के दौरान इन क्षेत्रों में मिलने वाले पुरस्कारों का ऐलान कर दिया जाएगा.

error: Content is protected !!