Treading News

सिद्धू मूसेवाला को मारने के लिए प्रयोग की गई बलेरो बरामद, पुलिस के हाथ लगे ये बड़े सबूत

RIGHT NEWS INDIA: सिद्दू मूसेवाला की हत्या में मामले में एसआईटी की जांच तेज गति से चल रही है। पुलिस ने हत्या में इस्तेमाल की गई बोलेरो गाड़ी को बरामद कर लिया है। बोलेरो गाड़ी का मिलना पुलिस के लिए अहम माना जा रहा है। इस बोलेरो गाड़ी से कई हैरान करने वाली चीजें मिली है।

फिलहाल बताया गया है कि हत्या में जिस बोलेरो गाड़ी का इस्तेमाल किया गया, उसके अंदर पुलिस को एक नहीं बल्कि कई अलग-अलग नंबरों की फर्जी प्लेटें मिली है। इनमें से एक रजिस्ट्रेशन नंबर फिरोजपुर का भी है। इन नंबर प्लेटों को लेकर पुलिस सकते में है और बड़े पैमाने पर इन नंबर प्लेटों का रिकॉर्ड खंगाला जा रहा है। इस बोलेरो गाड़ी में से एक फिरोजपुर की नंबर प्लेट नंबर पीबी- 05 एपी -6114 बरामद हुई है,जबकि हत्या के दौरान इस गाड़ी पर दिल्ली का रजिस्ट्रेशन नंबर डीएल- 10सीटी -0196 लगा हुआ था।

क्या गाड़ी आगे बेच गई थी या नंबर का हुआ दुरुपयोग

इसको लेकर बड़ा सवाल बना हुआ है कि जिस व्यक्ति के नाम की इस गाड़ी को लेकर फिरोजपुर आरटीओ कार्यालय में रजिस्ट्रेशन दिखाई जा रही है क्या उसने यह गाड़ी आगे बेच दी थी? या उसकी गाड़ी के नंबर का भी दुरुपयोग किया गया है? इन सभी सवालों का पता लगाने के लिए पुलिस और एजेंसियों की कार्रवाई जारी है।

ऐसी भी आशंका व्यक्त की जा रही है कि ऐसे गैंगस्टर या समाज विरोधी तत्व घटना को अंजाम देते समय किसी दूसरी गाड़ियों के नंबर लगा कर पुलिस को उलझाने का प्रयास करते हैं। वहीं इस रजिस्ट्रेशन नंबर की गाड़ी के मालिक ने संपर्क करने पर बताया है कि यह उसकी स्कॉर्पियो गाड़ी का नंबर है और उसकी गाड़ी घर में खड़ी हुई है ,जो उसने बेचने के लिए लगाई हुई है।

हत्या में रूसी राइफल AN-94 का इस्तेमाल

बता दें कि सिद्धू मूसेवाला की हत्या के मामले में पुलिस को कई और सुराग भी मिले हैं। पंजाब के DGP ने प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि घटनास्थल से बरामद हुए गोलियों के खोल तीन अलग अलग पिस्टल के हैं। इनमें से एक राइफल AN-94 का इस्तेमाल हुआ है।

यह रूस की 1994 असॉल्ट राइफल है। पंजाब गैंगवार में इस तरह के हथियार का पहली बार इस्तेमाल देखने को मिला है। पुलिस को घटनास्थल से अठ-94 राइफल की 3 गोलियां भी बरामद हुई हैं। बताया गया है कि इस हमले में 8 से 10 हमलावर शामिल थे जिन्होंने सिद्धू मूसेवाला पर ताबड़तोड़ करीब 30 से ज्यादा राउंड फायर किये थे।