Taliban War: 40 तालिबानियों को मार कर तीन जिलों पर फिर फहराया गया अफगान झंडा

अफगानिस्तान में तालिबान के खिलाफ लड़ाई तेज हो गई है। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, स्थानीय गुटों ने तालिबान के कब्जे से 3 जिलों को छुड़ा लिया है और वहां पर अफगानिस्तान का झंडा फहराया।

एक रिपोर्ट में ये भी दावा किया जा रहा है कि 40 तालिबानी लड़ाकों को मार गिराया गया है। 15 अन्य बुरी तरह से घायल हैं। तालिबान के खिलाफ ये बगावत की शुरुआत के तौर पर देखा जा रहा है।

तालिबान के अंत की शुरुआत
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, खैर मुहम्मद अंदाराबी की लीडरशिप में एक गुट ने तालिबान के कब्जे से 3 जिलों पोल ए हेसर, देह सलाह और बानो को छुड़ा लिया है। अब वे दूसरे जिलों से भी तालिबानियों को भगाने के लिए आगे बढ़ रहे हैं। अफगान समाचार एजेंसी असवाका ने कहा, कई तालिबान मारे गए और घायल हुए हैं।

जीत के बाद अफगानिस्तान का झंडा लगाते हुए

पंजशीर घाटी से शुरू हुई जंग
तालिबान के खिलाफ जंग की शुरुआत पंजशीर घाटी से हुई। ये वो जगह है जहां पर तालिबान कभी भी कब्जा नहीं कर पाया। यही से कुछ दूरी पर पोल ए हेसर जिला है, जिसे स्थानीय गुटों ने तालिबान से मुक्त कराया।

पत्रकारों के परिवारों को मार रहा तालिबान
जर्मन पब्लिस ब्राडकास्टर ने कहा कि तालिबान ने ड्यूश वेले पत्रकार के एक रिश्तेदार की गोली मारकर हत्या कर दी। DW ने गुरुवार को कहा कि तालिबानी हर घर की तलाशी कर रहे हैं। एक अन्य रिश्तेदार गंभीर रूप से घायल हो गया है।

अफगानिस्तान में अमेरिका के 5200 सैनिक
अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा कि अमेरिकी सैनिक सबसे कठिन एयरलिफ्ट को अंजाम दे रहे हैं। उन्होंने 13000 लोगों को निकाला है। ये ऐसे वक्त में हो रहा है जब अफगानिस्तान की धरती से अमेरिकी सैनिकों को वापस बुलाने का फैसला किया गया। अभी अफगानिस्तान में अमेरिका के 5200 सैनिक हैं।

error: Content is protected !!