लापता ट्रैकर को ढूंढने निकली 10 सदस्यीय टीम, ड्रोन से भी होगी तलाश

0
4

हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले में मनाली की फ्रेंडशिप पीक में हिमस्खलन होने से लापता शिमला के पर्वतारोही की तलाश के लिए मंगलवार सुबह बचाव दल रवाना हुआ। अटल बिहारी वाजपेयी पर्वतारोहण एवं खेल संस्थान की इस टीम में कुल 10 सदस्य हैं।

टीम ड्रोन कैमरे की मदद से लापता पर्वतारोही की तलाश करेगी। संस्थान के निदेशक अविनाश नेगी ने बताया कि आज सुबह करीब 4:00 बजे यह टीम रवाना हुई। टीम लेडी लेग रिज ट्रैक से होकर गई है।

फ्रेंडशिप पीक में लापता पर्वतारोही की तलाश के लिए एक और बचाव टीम भी रवाना हुई है। एडवेंचर टूर ऑपरेटर एसोसिएशन की इस टीम में पांच सदस्य हैं। यह टीम बुधवार को भी वहीं ठहरेगी। इस टीम में एसडीएम मनाली डॉ. सुरेंद्र ठाकुर भी शामिल थे। वह पीक से वापस आ गए हैं। पांच सदस्य सर्च अभियान में जुटे हैं।

बता दें फ्रेंडशिप पीक में हिमस्खलन होने से लापता शिमला के पर्वतारोही का तीन दिन बाद भी सुराग नहीं लगा है। सोमवार को अटल बिहारी वाजपेयी पर्वतारोहण एवं खेल संस्थान मनाली से गई पांच सदस्यीय टीम भी बैरंग लौट आई थी। निजी हेलिकाप्टर से फ्रेंडशिप की चोटी पर भी तलाश की, लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। अब ब्यासकुंड के रास्ते से सर्च ऑपरेशन चलाया जाएगा। ड्रोन की सहायता से लापता पर्वतारोही की तलाश होगी।

क्या था मामला

मनाली से 15 नवंबर को तीन युवक फ्रेंडशिप पीक फतह करने निकले थे। इनमें शिमला के आशुतोष, मनाली के साहिल और शिमला के सचिन शामिल थे। शनिवार सुबह आशुतोष अचानक हुए हिमस्खलन की चपेट में आ गया। साहिल और सचिन ने मनाली थाने में पहुंचकर शनिवार शाम को इसकी जानकारी दी। रविवार को एसएचओ मुकेश राठौर की अगुवाई में बचाव टीम गई, लेकिन यह टीम बैरंग लौट गई। अब ड्रोन कैमरे से तलाश की जा रही है।

समाचार पर आपकी राय: