कॉलेज जाने से रोकने के लिए चाचा युवती के सामने हुए निर्वस्त्र, तेजाब फेंकने की भी दी धमकी

0
31

RIGHT NEWS INDIA: उत्तर प्रदेश के बरेली में 12वी पास एक मुस्लिम लड़की की पढ़ाई का दुश्मन समाज नहीं बल्कि उसी के ही घरवाले बन गए है. 12वी पास एक मुस्लिम लड़की की पढ़ाई का दुश्मन समाज नहीं बल्कि उसी के ही घरवाले बन गए है.

युवती कॉलेज जाकर पढ़ाई करना चाहती थी, लेकिन उसके चाचा और दादी उसकी पढ़ाई के खिलाफ थे. बात इतनी ज्यादा बढ़ गई कि भतीजी को पढ़ाई से रोकने के लिए दो चाचा उसके सामने जबरन निर्वस्त्र हो गए और बोले- पढ़ने जाएगी तो यही होगा. साथ ही युवती को तेजाब फेंकने की धमकी भी दे डाली. जिसके बाद युवती ने कॉलेज जाना बंद कर दिया है.

जिसके बाद अब लड़की की मां थाना सुभाषनगर में रिपोर्ट दर्ज कराई है. पीड़ित छात्रा के मुताबिक उसके पिता एक प्राइवेट नौकरी करते हैं. घर की आर्थिक स्थिति सही नहीं है. उसने इसी साल 12वीं पास करके ग्रेजुएशन करने के लिए कॉलेज में दाखिला लिया था और कोचिंग भी शुरू की थी, लेकिन उसकी दादी और चाचा को उसका आगे पढ़ना पसंद नहीं है. उनका साफ कहना है कि स्कूल-कॉलेज की पढ़ाई लड़कियों के लिए नहीं है.

घर आकर हुए चाचा निर्वस्त्र

पीड़िता के मुताबिक 20 अगस्त को मां के साथ वह घर पर अकेली थी. तभी उसके दो चाचा घर में घुस आए. दोनों ने उसके और उसकी मां के सामने पहले अश्लील हरकतें कीं और फिर निर्वस्त्र हो गए. जिसके बाद मां ने पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने आकर जांच की लेकिन कोई कार्रवाई किए बगैर लौट गई. बात यही नहीं खत्म हुई जब अगले दिन वो कॉलेज गई तो उसे कॉलेज आते-जाते देख चाचा ने उसे तेजाब फेंकने की धमकी दे डाली.

पुलिस ने मुकदमा किया दर्ज

इसके बाद तीसरे चाचा ने भी घर आकर उसके साथ गालीगलौज की. तीनों चाचा के डर के कारण उसने कॉलेज और कोचिंग दोनों छोड़ दीं. पीड़ित छात्रा के मुताबिक 21 अगस्त को भी उसकी मां ने पुलिस को तहरीर दी. शनिवार को एक बार फिर वह उसे लेकर थाने पहुंचीं, तब कहीं उसकी रिपोर्ट दर्ज हो पाई.

युवती पर बनाया जा रहा है समझौते दबाव

छात्रा ने बताया अब जब मामला दर्ज हो गया है तो उसके चाचा-चाची और दादी परिवार का हवाला देकर मामला वापिस लेने और समझौता करने को कह रहे हैं, लेकिन वह किसी कीमत पर समझौता नहीं करेगी. युवती का कहना है कि भतीजी के सामने कपड़े उतारने में शर्म नहीं आई, अब किस मुंह से समझौते की बात कह रहे हैं. घर की महिलाओं का सम्मान तो किया नहीं. उसे यह भी नहीं समझ आ रहा है कि उसके माता-पिता उसे पढ़ा रहे हैं तो किसी को क्या परेशानी है.

Leave a Reply