सोती हुई पत्नी की कुल्हाड़ी से काट कर उतारा मौत के घाट, जाने आशा और नदीम की दर्दनाक प्रेम कहानी

0
109

गाजियाबाद : गाजियाबाद में आशा देवी नाम की एक महिला की हत्या के आरोप (murder charges) में नदीम नाम के युवक को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस के मुताबिक नदीम और आशा देवी के बीच प्रेम संबंध थे, लेकिन उसको आशा के नेचर और अन्य पुरुष के साथ संबंध होने का शक हो गया था. इसके चलते उसने उसको कुल्हाड़ी से काट डाला (cut with an ax) और प्रेमिका का हत्यारा बन गया.

दीनदयालपुरी में 17 को हुई थी आशा देवी की हत्या : मामला गाजियाबाद के आनंदग्राम इलाके का है. पुलिस के मुताबिक, 17 सितंबर को नंदग्राम के दीनदयालपुरी में एक महिला की हत्या हो गई थी. घटना के खुलासे के लिए टीम काम कर रही थी. मामले में आरोपी नदीम को पकड़ा गया है.

आरोपी नदीम, महिला आशा से एक साल पहले मिला था और दोनों के बीच प्रेम संबंध हो गए थे. कुछ दिन पहले वो मुरादाबाद गया था. जब उसने आशा देवी को फोन कॉल किया तो किसी पुरुष ने फोन उठाया था. लिहाजा नदीम को महिला पर किसी अन्य पुरुष से संबंध होने का शक हो गया था. वारदात के दिन वो महिला के घर गया. इस दौरान उसने महिला से कुछ नहीं कहा.

हालांकि, थोड़ा बहुत झगड़ा हुआ और उसके बाद दोनों सो गए. रात को अचानक नदीम उठा और उसने महिला पर सोते समय कुल्हाड़ी से हमला कर दिया. जिससे महिला की मौत हो गई. इसके बाद उसने वहां कपड़े बदले और भाग गया. जाते समय वह अपने साथ आशा का मोबाइल भी ले गया. इसके अलावा घर में रखे हुए कीमती जेवर भी अपने साथ लेता गया. नदीम ने इसके बाद मोबाइल को तोड़ कर गंग नहर में फेंक दिया. कुल्हाड़ी को भी फेंक दिया गया था.

शादीशुदा थी आशा, जूस बेचने वाले नदीम से हुए प्रेम संबंध : बता दें, आशा की पूर्व में शादी हो चुकी थी, लेकिन वह नंदग्राम इलाके में पति से अलग होकर किराये के मकान में रह रही थी. नदीम के बारे में पता चला है कि वह जूस बेचने का काम करता है.

मुरादाबाद में उसका जूस बेचने का काम है. पुलिस अब इस एंगल पर भी जांच कर रही है कि शादीशुदा आशा नदीम के संपर्क में किस तरह से आई थी. लेकिन जिसने भी इस वारदात को सुना है वह हैरान है. क्योंकि सिर्फ शक के चलते नदीम ने आशा को कुल्हाड़ी से काटकर मौत के घाट उतार दिया. पहले पति से घरेलू कारणों से अलग होकर दुख में डूबी आशा को ऐसा लगा होगा कि नदीम उसके लिए सहारा बनेगा. लेकिन नदीम उसके लिए मौत बन जाएगा शायद आशा ने भी नहीं सोचा होगा.

Leave a Reply