मुख्यमंत्री के गृह शहर थुनाग में छेड़छाड़ से पीड़ित लड़की ने की आत्महत्या, पुलिस पर लगे जांच ना करने के आरोप

0
794

थुनाग (मंडी)। मुख्यमंत्री के गृह जिले में एक युवती इसलिए आत्महत्या करने पर मजबूर हो गई, क्योंकि पुलिस ने सही समय पर सही कदम नहीं उठाए। जानकारी के मुताबिक जहरीला पदार्थ खाने से आईजीएमसी में उपचाराधीन बगस्याड़ की 19 साल की युवती की मौत हो गई है। मामले में परिजनों ने पुलिस की कार्यशैली पर आरोप लगाए हैं। कहा कि कुछ लड़के उनकी बेटी से छेड़छाड़ कर तंग कर रहे थे। इससे परेशान होकर बेटी ने जान दे दी है। मामले की शिकायत गुड़िया हेल्पलाइन में की गई थी लेकिन पुलिस ने जांच नहीं की।

जानकारी के मुताबिक मोनू और चुनी लाल नाम के दो लड़के युवती को कुछ वायरल करने की धमकी देकर ब्लैकमेल कर रहे थे। जिसके बारे पुलिस के अनुसार शिकायत 112 के तहत दर्ज की गई थी। दोनों पक्षों से बातचीत के बाद मामला सुलझ गया था। 10 अगस्त को युवती ने जहरीली दवाई का सेवन कर लिया। उसे सिविल अस्पताल बगस्याड़ लाया गया।

यहां से नेरचौक और फिर आईजीएमसी शिमला रेफर कर दिया। मंगलवार शाम 5 बजे युवती की मौत हो गई। लड़की के परिजनों का आरोप है कि कुछ लड़के बेटी को तंग कर रहे थे। बेटी ने इस बारे बताया तो 9 जून को गुड़िया हेल्पलाइन 1515 पर शिकायत दर्ज करवाई थी।

डीएसपी करसोग गीतांजलि ठाकुर ने बताया कि गुड़िया हेल्पलाइन की ओर से जो शिकायत मिली थी, उसमें 112 के तहत मामला दर्ज हुआ था। दोनों पक्षों से बातचीत कर मामला सुलझ गया था। परिजनों की ओर से अभी तक इस तरह की कोई शिकायत नहीं मिली है कि छेड़छाड़ से तंग आकर उनकी बेटी ने जान दे दी है।

Leave a Reply