सात परिजनों का पेट पालने वाले दलित ट्रक ड्राइवर की गुंडों ने कर दी हत्या, परिजनों का शव लेने से इंकार

0
118

बाड़मेर। जालौर में 9 साल का बच्चा इंद्र मेघवाल और उसके बाद जैसलमेर में मटके से पानी पीने के मामले में एक युवक का सिर फोड़ना ,दलितों से जुड़े यह दोनों मामले अभी तक पुलिस पूरी तरह से सुलझा नहीं सकी है। लेकिन इस बीच बाड़मेर जिले से बड़ी खबर आ रही है।

बाड़मेर जिले से 7 सदस्यों को पालने वाले परिवार के इकलौते मुखिया की हत्या कर दी गई है । वह कल शाम को आखिरी बार देखा गया था । उसके बाद कुछ लोग उसका अपहरण कर ले गए और आज सवेरे करीब 9:00 बजे के आसपास उसका शव बाड़मेर में एक सुनसान सड़क पर पड़ा हुआ दिखाई दिया । जैसे ही परिवार के लोगों को इसकी सूचना मिली उन्होंने तुरंत पुलिस को बताया। पुलिस ने शव को मुर्दाघर में रखवाया है । लेकिन अब परिजन शव लेने से इंकार कर रहे हैं । कई घंटों से लगातार बाड़मेर पुलिस और बाड़मेर जिला प्रशासन परिजनों को समझाने की कोशिश कर रहा है। लेकिन वह मानने को तैयार नहीं है

7 सदस्यों को पालने वाला ट्रक ड्राइवर था मृतक
मामले की जांच कर रही कल्याणपुर थाना पुलिस ने बताया कि तगाराम मेघवाल का शव आज सवेरे मिला है । तगाराम ट्रक ड्राइवर था और उसके साथ ही चारा सप्लाई का काम भी करता था। बाड़मेर जिले में ही वह अपना वाहन चलाता था। उसके परिवार में बुजुर्ग माता-पिता, मानसिक रूप से विक्षिप्त छोटा भाई , पत्नी और 3 बच्चे हैं। 7 सदस्यों के परिवार को पालने वाला वह इकलौता था। सोमवार दोपहर वह अपने घर था और उसके बाद बैंक से पैसे निकालने गया था। शाम को वापस लौटा तो उसके साथ उसके कुछ साथी थे । वह उनके साथ गया तो वापस नहीं लौटा।

परिवार का कहना है कि तगाराम का अपहरण कर लिया गया। आज सवेरे कल्याणपुर इलाके में ही उसका शव एक सड़क पर पड़ा मिला । कल रात को आखरी बार तगाराम को वगताराम पटेल के साथ देखा गया था । पटेल और उसके साथियों के बारे में परिवार ने पुलिस को सूचना दी है । वह बैंक से रुपये निकाल कर लाया था वह भी तगाराम के पास ही थी । सवेरे इस घटना की जानकारी जब परिवार के अन्य लोगों एवं गांव के लोगों को मिली तो पुलिस के खिलाफ भीड़ जुटना शुरू हो गई। बड़ी संख्या में फिलहाल पुलिस प्रशासन के खिलाफ लोग बैठे हैं । तगाराम का शव नहीं लिया जा रहा है। पुलिस और प्रशासन लगातार समझाइश कर रहा है । परिवार के सदस्यों की मांग आरोपियों को गिरफ्तार करना और उचित मुआवजे की है।

Leave a Reply