Facebook Live के बाद भाजपा कार्यकर्ता ने की आत्महत्या, फंदे पर लटका मिला शव

0
34

हुगली (भाषा)। पश्चिम बंगाल के हुगली जिले में फेसबुक लाइव पर शिकायत करने के बाद ही भाजपा कार्यकर्ता का लटका हुआ शव बरामद हुआ. कार्यकर्ता ने सोशल मीडिया पर विधायक का नाम लेकर न्याय भी मांगा था. बीजेपी ने दावा किया कि उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं को मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा है. हालांकि तृणमूल इस आरोप को मानने को तैयार नहीं है. बीजेपी के नेताओं ने यह भी दावा किया कि अभिषेक चौधरी नाम के भाजपा कार्यकर्ता की मौत सामान्य नहीं थी. भाजपा की ओर से पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई गई है. पुलिस ने क्लब के सचिव कुणाल सरकार को गिरफ्तार किया है.

हुगली जिले के चुंचुड़ा नगरपालिका के वार्ड नंबर 3 के केओटा मिलिट्री कॉलोनी निवासी अभिषेक चौधरी का शव सोमवार सुबह बरामद किया गया. पुलिस का प्रारंभिक अनुमान है कि अभिषेक ने आज सुबह अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली.

फंदे से लटका मिला बीजेपी कार्यकर्ता का शव

बीजेपी का दावा है कि अभिषेक पार्टी का सक्रिय कार्यकर्ता था. फेसबुक पर लाइव वीडियो देखकर आज सुबह दोस्त अभिषेक के घर पहुंचे. अभिषेक के परिवार को भी कुछ पता नहीं था. फोन करने के बाद भी अभिषेक का कोई जवाब नहीं आया. दरवाजा तोड़कर उसका लटका हुआ शव बरामद किया गया. चंचुड़ा इमामबाड़ा अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने 28 वर्षीय अभिषेक को मृत घोषित कर दिया. भाजपा नेतृत्व ने कहा कि अभिषेक ने अपनी मौत से पहले फेसबुक लाइव पर जान से मारने की धमकी मिलने की शिकायत की थी.

अभिषेक ने लगाया था प्रताड़ित करने का आरोप

अभिषेक ने यह भी कहा कि बीजेपी करने के कारण उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है. अभिषेक ने एक स्थानीय क्लब के सचिव कुणाल सरकार के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है. उनका दावा है कि उन्हें धमकाया गया है. उनके परिवार को भी जान से मारने की धमकी दी गई है. क्लब सचिव कुणाल सरकार इस पर कोई टिप्पणी नहीं की. उस क्लब के सदस्य पंकज दास ने बताया कि अभिषेक के दादा उस क्लब से जुड़े हुए हैं. उन्हें नहीं पता कि अभिषेक ने ऐसी शिकायत क्यों की.

फेसबुक लाइव में विधायक से मांगा था न्याय

भाजपा के हुगली संगठनात्मक जिला महासचिव सुरेश साव ने कहा कि अभिषेक हुगली मंडल के लंबे समय से कार्यकर्ता थे. उन्होंने दावा किया कि उसे कई दिनों से मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा था. पार्टी की ओर से चुंचुड़ा थाने में शिकायत दर्ज कराई गई है. अभिषेक ने फेसबुक लाइव पर चुंचुड़ा विधायक के नाम का भी जिक्र किया था. उन्होंने विधायक से न्याय की गुहार लगाई. चुंचुड़ा के विधायक असित मजूमदार ने इस संदर्भ में कहा, “अगर कोई बीजेपी का सदस्य है, अगर कोई उसे धमकी देता है तो यह बेहद शर्मनाक है. ऐसा नहीं होना चाहिए.” उन्होंने आगे कहा, “कोई भी पार्टी का लोकतांत्रिक अधिकार है. मेरी पार्टी तृणमूल कांग्रेस है, लेकिन मैं सबका विधायक हूं. अगर किसी ने धमकी दी है तो थाने में शिकायत की जानी चाहिए थी.”

Leave a Reply