बदायूं में विश्व हिंदू सेवा दल के जिलाध्यक्ष प्रदीप कुमार की गोली मार कर हत्या, देसी पिस्टल बरामद

0
2

यूपी के बदायूं में विश्व हिन्दू सेवा दल के जिलाध्यक्ष प्रदीप कुमार की अज्ञात बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी है. पुलिस ने उनकी गाड़ी से एक देशी पिस्टल भी बरामद किया है.

आंवला सांसद धर्मेंद्र कश्यप के करीबी प्रदीप कुमार का तीन चार दिन पहले ही कोटे की दुकान को लेकर गांव में झगड़ा हुआ था. इस झगड़ के दौरान उन्हें जान से मारने की भी धमकी मिली थी. शव गांव के पास ही जंगल में मिला है. सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. पुलिस मामले की जांच कर रही है. आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की अलग अलग टीमों ने दबिश शुरू कर दी है.

जानकारी के मुताबिक गिधौल गांव के रहने वाले प्रदीप कुमार आंवला सांसद धर्मेंद कश्यप के करीबी है. शनिवार की अल सुबह वह किसी काम से कार में सवार होकर जा रहे थे. मूसाझाग थाना क्षेत्र के गांव गिधौल और मर्रई गांव के बीच जंगल से होकर गुजरते समय ही बदमाशों ने उनकी गाड़ी रोक ली और अंधाधुंध गोलियां बरसाते हुए उनकी हत्या कर दी. वारदात के बाद आरोपी प्रदीव के खून से लथपथ शव को वही जंगल में छोड़ कर फरार हो गए. ग्रामीणों की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव की पहचान करने के बाद परिजनों को सूचित किया. इसके बाद परिजनों ने पुलिस में तहरीर दी है.

आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए बनी चार टीमें

वारदात की सूचना पर मौके पर पहुंचे एसएसपी डॉ. ओपी सिंह ने बताया कि प्राथमिक जांच के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. इसी के साथ थाना पुलिस के अलावा क्राइम ब्रांच की चार टीमों का गठन किया गया है. यह चारों टीमें आरोपियों के संभावित ठिकानों पर दबिश दे रही है. उन्होंने बताया कि अब तक इस वारदात में जिन आरोपियों के नाम सामने आए हैं, वह सभी फरार हैं. लेकिन पुलिस ने उन्हें ट्रैक करना शुरू कर दिया है. जल्द ही सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

कोटे की दुकान को लेकर था विवाद

प्रदीप के परिजनों ने पुलिस को दिए बयान में बताया कि गांव में सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान को लेकर विवाद चल रहा था. इसी विवाद में प्रदीप का चार दिन पहले झगड़ा भी हुआ था. इसमें आरोपियों ने उन्हें जान से मारने की धमकी दी थी. इस संबंध में उन्होंने थाने में लिखित शिकायत भी दी थी, लेकिन पुलिस ने उस समय मामले को हल्के में लिया. ग्रामीणों के मुताबिक प्रदीप प्राइवेट विद्युत लाइन खिंचवाने का भी काम करता था. परिजनों ने इस वारदात के लिए पुलिस की लापरवाही को जिम्मेदार बताया है. एसएसपी डॉ. ओपी सिंह के मुताबिक कोटे की दुकान को लेकर विवाद था. जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार किया जाएगा.

समाचार पर आपकी राय: