ऊना न्यूज: सोनू और मोहित ने गुंडागर्दी करते हुए की मोहित की हत्या, अदालत ने सुनाई सात साल कठोर कारावास की सजा

0

ऊना। अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायधीश-दो ऊना रणजीत सिंह की अदालत ने हत्या (Murder) के एक मामले में चताड़ा गांव के दो भाईयों को दोषी करार देते हुए सजा सुनाई है. अदालत ने चताड़ा निवासी सोनू व मोहित शर्मा को दोषी करार देते हुए भादस की धारा 304(2) व 34 के तहत सात वर्ष की कठोर कैद व पांच हजार रुपए प्रत्येक को जुर्माना की सजा सुनाई है. जुर्माना अदा ना करने पर छह माह की अतिरिक्त कैद भुगतनी होगी.

जबकि भादस की धारा 323 व 34 के तहत छह माह की कैद व 500 रुपए जुर्माने की सजा सुनाई, जुर्माना अदा ना करने पर एक माह की अतिरिक्त कैद भुगतनी होगी. भादस की धारा 341 व 34 के तहत 15 दिन की साधारण कैद व 500 रुपए जुर्माने की सजा सुनाई, जुर्माना ना भरने पर सात दिन का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा. मामले की जानकारी देते हुए जिला न्यायवादी सोहन सिंह कौंडल ने बताया कि 10 अगस्त 2017 को शाम साढे छह बजे के करीब सत्यम शर्मा अपने भाई शिवम(अब मृतक) के साथ मोटर साईकल पीएच08 एडी-5468 पर चताड़ा गांव को दूध लेने जा रहे थे.

जब वे चताड़ा मार्ग पर पहुंचे तो उन्हें सोनू व मोहित ने रोका और उनके साथ झगड़ा करने लगे. जब सत्यम ने उनसे कहा कि उनके मन में उनके प्रति कोई दुर्भावना नही है तो इसी दौरान शीतल उर्फ सोनू ने सत्यम व उसके भाई को डंडे से मारना शुरू कर दिया. वहीं मोहित ने ईंट उठाकर सत्यम व शिवम को मारी, जिससे उनके सिर पर गहरी चोट लगी. इसी दौरान कई लोग मौके पर पहुंच गए परंतु किसी ने भी लड़ाई में हस्तक्षेप नही किया क्योंकि ग्रामीण शीतल उर्फ सोनू व मोहित से डरते थे.

इसी बीच शिकायतकर्ता सत्यम के पिता मौके पर पहुंचे और दोनों घायलों को अस्पताल ले गए. अस्पताल में उपचार के दौरान शिवम की मृत्यु हो गई. जिस पर पुलिस (Police) ने भादस की धारा 341, 323, 302 व 34 के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू की और चार्जशीट कोर्ट में दाखिल की गई. अदालत में 34 गवाहों को प्रस्तुत किया गया व दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद अदालत ने आरोपियों को सजा सुनाई.

Previous articleKullu Holi: होली से 40 दिन पहले शुरू हो जाती है कुल्लू में होली, जानें क्या है बैरागी समुदाय की होली परंपरा
Next articleशिमला में पंजाब के युवक ने फंदा लगा कर की आत्महत्या, शादी समारोह में गया था परिवार

समाचार पर आपकी राय: