मुख्यमंत्री पद के लिए कौल सिंह जताई दावेदारी, कहा, सीनियारिटी, अनुभव और मैच्योरिटी में मेरे मुकाबले कोई नही

0
3

दिल्ली. हिमाचल प्रदेश में चुनावी नतीजों से पहले ही कांग्रेस में सीएम पद के लिए उठापटक शुरू हो गई है. प्रदेश के कई दिग्गज कांग्रेसी नेता दिल्ली दरबार में हाजिरी भरने पहुंच रहे हैं. कांग्रेस नेता सुक्खविंदर सुक्खू, डॉक्टर रामलाल, के अलावा, मंडी से सीनियर कांग्रेस नेता कौल सिंह भी दिल्ली पहुंचे हैं और केंद्रीय नेताओं से मुलाकात की.

इस दौरान कौल सिंह ने सीएम पद को लेकर अपनी दावेदारी जताई. हिमाचल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कॉल सिंह ठाकुर ने मीडिया के साथ बातचीत में कहा कि उन्होंने कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मलिकार्जुन खरगे से मुलाकात की है. मुलाकात के दौरान उन्होंने हिमाचल की चुनाव की पूरी रिपोर्ट राष्ट्रीय अध्यक्ष को दी है. साथ ही कौल सिंह ने कहा कि 45 से ज्यादा सीटें लाकर इस बार हिमाचल में कांग्रेस सरकार बना रही है.

सीएम बनने के सवाल पर कौल बोले-अगर सीनियारिटी, अनुभव और मैच्योरिटी को देखा जाए तो उस हिसाब से मेरे मुकाबले में हिमाचल प्रदेश में कोई नहीं है. मगर हाईकमान जो फैसला करेगी, वह सर्वमान्य होगा. विधायकों की राय ली जाएगी, सभी को पता है कौन सीनियर मोस्ट है, किस का अनुभव ज्यादा है. अपनी जीत को लेकर कौल सिंह ने कहा कि निश्चित तौर पर में 9 बार विधानसभा के अंदर प्रवेश करूंगा. जो पहली बार विधायक बनता है, वह भी मंत्री बनना चाहता है और दूसरी-तीसरी बार बनता है तो वह मुख्यमंत्री बनना चाहता है मैं तो नौंवी बार जीत रहा हूं. हालांकि, पार्टी का जो फैसला होगा, वह मंजूर होगा.

सीएम जयराम के रिवाज बदलने के दावे पर कौल सिंह ने कहा किजयराम को बोलने दीजिए. इस बार सरकार कांग्रेस की आ रही है. चुनाव के बाद सीएम कहेंगे कि हमें तो अपनों ने लूटा गैरों में कहां दम था मेरी कश्ती वहां डूबी जहां पानी कम था.

कौन हैं कौल सिंह

कौल सिंह कांग्रेस के सीनियर नेता हैं. वह मंडी के द्रंग से आते हैं. यहां से 2017 का चुनाव वह हार गए थे. आठ बार विधायक रहे चुके हैं. कांग्रेस सरकार में मंत्री भी रहे हैं. अब 9वीं बार चुनाव जीतने का दावा कर रहे हैं और साथ ही सीएम पद को लेकर भी दावेदारी जता रहे हैं. कौल सिंह 2012 में कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष भी रह चुके हैं.

समाचार पर आपकी राय: