बिहार में कानून का मजाक, पांच साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म, पंचायत ने आरोपी को दी पांच बार उठक बैठक की सजा

0
15

लड़कियों की सुरक्षा के लिए राज्य सरकारों की तरफ से बड़े-बड़े दावे किए जाते हैं। बावजूद इसके बेटियां असुरक्षित हैं। वहीं, अगर उनके साथ कोई जघन्य अपराध होता है, तो भी मामले को दबा दिया जाता है या फिर इसके लिए आरोपियों को नाममात्र की सजा दी जाती है।

ऐसा ही एक मामला बिहार के नवादा जिले से आया है। यहां एक पांच वर्षीय बच्ची से दुष्कर्म के आरोपी को पंचायत की तरफ से सिर्फ पांच बार उठक-बैठक करवाकर छोड़ दिया गया। इस मामले को लेकर एक तरफ जहां बिहार सरकार पर सवाल उठ रहे हैं। वहीं, इस तरह के न्याय को लेकर लोगों का सोशल मीडिया पर गुस्सा फूट गया है और वो पंचायत के साथ-साथ प्रशासन की अलोचना कर रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक नवादा जिले का रहने वाला एक व्यक्ति जो मूर्गी फार्म चलाता है। उसने एक पांच वर्षीय नाबालिग को चॉकलेट दिलाने के नाम पर अपने फार्म में ले गया और दुष्कर्म किया। आरोपी के चंगुल से जब नाबालिग छूटी तो उसने घर जाकर परिजनों को आपबीती बताई। इसके बाद नाबालिग के परिजन थाने जाने लगे तो आरोपी पंचायत के पास पहुंच गया। जिसके बाद पंचों ने परिजनों को थाने नहीं जाने दिया और आरोपी को पांच उठक-बैठक लगवाकर सजा माफ कर दिया।

आरोपी गांव में भीड़ और पंचों के सामने उठक-बैठक कर रहा है। जिसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इस वीडियो को लेकर लोग आक्रोशित हो गए हैं और भारत में पितृसत्ता विषम न्याय का सबूत बता रहे हैं। साथ ही लोग मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव से सवाल कर रहे हैं कि क्या वे इस मामले में कार्रवाई करेंगे?

इधर, पुलिस अधीक्षक गौरव मंगला का कहना कि मामले में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है और आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि पुलिस घटना को दबाने की कोशिश करने वालों की भी जांच कर रही है।

समाचार पर आपकी राय: