फोरेंसिक रिपोर्ट; बलेनो के अगले बाएं पहिए से फंसी थी मृतका अंजलि, 12 किमी तक घसीटा

0

दिल्ली: समाचार एजेंसी एएनआई ने फोरेंसिक रिपोर्ट का हवाला देते हुए बताया कि बलेनो की जांच करने के बाद यह पाया गया कि अंजलि वाहन के आगे के बाएं पहिये पर फंसी हुई थी। बता दें कि नए साल पर बाहरी दिल्ली में एक कार द्वारा अंजलि सिंह नामक युवती को टक्कर मारने और 12 किलोमीटर तक घसीटे जाने मामला सामने आया। इस हादसे में अंजलि की मृत्यु हो गई। फिलहाल मामले की जांच जारी है।

दिल्ली में फोरेंसिक साइंस लेबोरेटरी ने बुधवार को समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि प्रारंभिक जांच के अनुसार महिला कार के आगे के बाएं पहिये पर फंस गई थी। लैब ने कहा, “आरोपी की कार की प्रारंभिक जांच से पता चलता है कि महिला वाहन के आगे के बाएं पहिये में फंसी हुई थी। ज्यादातर खून के धब्बे आगे के बाएं पहिये के पीछे पाए गए। कार के नीचे अन्य हिस्सों पर भी खून के धब्बे मिले हैं।”

लैब ने आगे कहा, “कार के अंदर मौजूद महिला का अब तक कोई सुराग नहीं मिला है। गिरफ्तार किए गए कार सवारों के ब्लड सैंपल भी विस्तृत जांच के लिए फोरेंसिक साइंस लेबोरेटरी पहुंच गए हैं।” मृतका का शव कंझावला इलाके में मिला था। मंगलवार को कड़ी सुरक्षा के बीच उनका अंतिम संस्कार किया गया। दुर्घटना करने वाले वाहन में मौजूद पांचों आरोपियों को सोमवार (2 जनवरी) को तीन दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया।

बता दें कि इस हादसे के दो दिन बाद मृतका की सहेली ने मंगलवार को पुलिस के समक्ष अपना बयान दर्ज कराया। सीसीटीवी फुटेज खंगालने के बाद पुलिस ने अंजलि की दोस्त का पता लगाया। अंजलि की दोस्त ने कहा कि वे नए साल की पूर्व संध्या पर एक होटल में कुछ दोस्तों से मिलने गई थीं और आरोप लगाया कि ‘नशे में’ होने के बावजूद पीड़िता पार्टी के बाद स्कूटी चलाना चाहती थी।

अन्य चश्मदीद गवाहों के विपरीत, पीड़िता की दोस्त ने दावा किया कि उस कार में कोई संगीत नहीं बज रहा था जिसने उन्हें टक्कर मारी थी। साथ ही उसने दावा किया कि ड्राइवर को पता था कि अंजलि पहियों के नीचे घिसटती जा रही है। सहेली ने पत्रकारों को बताया, “उन्होंने जानबूझकर अपराध किया। वह लगातार चीख रही थी लेकिन उन्होंने कार नहीं रोकी। मैं डर से वहां से भाग गई और किसी को घटना के बारे में नहीं बताया। कार ने उसे दो बार आगे-पीछे घसीटा और फिर तेजी से आगे की ओर चले गए और वह (अंजलि) कार के नीचे और ज्यादा फंस गई।”

Previous articleपूर्व आईपीएस ऑफिसर किरण बेदी ने दिल्ली हत्याकांड पर उठाए सवाल, कहा, लोगों को नही है कानून का डर
Next articleकर्मचारी चयन आयोग को निलंबित करने का अधिकार किसी को भी नही; जय राम ठाकुर

समाचार पर आपकी राय: