तलाकशुदा पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर की पूर्व पति की हत्या, संपति और मौज मस्ती बनी हत्या का कारण

0
8

सहसपुर पुलिस ने बालूवाला गांव में हुए चिकन शॉप संचालक गुमान सिंह की हत्या का खुलासा कर दिया है। पुलिस ने मृतक कारोबारी की तलाकशुदा पत्नी और उसके प्रेमी को गिरफ्तार किया है। पूर्व पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर गुमान की हत्या की।दोनों के खिलाफ पुलिस ने हत्या का मुकदमा दर्ज किया है।

एसएसपी दलीप सिंह कुंवर ने गुरुवार को प्रेसवार्ता में बताया कि बुधवार रात को बालूवाला में एक मकान में गुमान सिंह यादव (45) पुत्र चमनलाल का शव मिला था। गले पर चोट के निशान थे। इस पर सीसीटीवी कैमरे खंगाले गए और गुमान की तलाकशुदा पत्नी आशा से पूछताछ की गई। पूछताछ में पता चला कि आशा ने प्रेमी रणजीत सिंह नेगी पुत्र बचन सिंह निवासी गजा टिहरी संग मिलकर गुमान की हत्या को अंजाम दिया।

आशा ने बताया कि वर्ष 2013 में गुमान से तलाक हुआ था। बच्चे गुमान के साथ ही रहते थे। वह खुद सेलाकुई में घरों में बच्चों की मालिश करती है। इस दौरान वह रणवीर के संपर्क में आई। गुमान आशा और बच्चों को खर्च नहीं देता था। बच्चों को मारता-पीटता था। हाल में गुमान ने बालूवाला के घर को बेचा था। इससे उसे कुछ रुपये मिले थे, जिससे वह ऐशोआराम कर रहा था। इस पर आशा ने प्रेमी रणवीर के साथ मिलकर गुमान को रास्ते से हटाने का प्लान बनाया। 22 नवंबर को गुमान को बालूवाला के घर बुलाकर हत्या कर दी गई।

सीसीटीवी से पहुंचे हत्यारोपियों तक
पुलिस ने 23 की रात से 24 तक 45 सीसीटीवी कैमरे खंगाले थे। आशा के गुमान के बालूवाला स्थित घर जाने के फुटेज, रणजीत के बाइक से बालूवाला पहुंचने की जानकारी मिली थी। आशा, रणजीत और गुमान सिंह के फोन को पुलिस ने सर्विलांस पर लगाया था एवं कॉल डिटेल खंगाली। हत्या की वारदात के दिन आशा यादव ने गुमान से फोन पर चार बार बातचीत की थी।

पिता की मौत, मां जेल गई अब बेसहारा हो गया सानू
गुमान और आशा के तीन बच्चे हैं। बड़ा बेटा वर्ष 2014 में घर से लापता हो गया था। बेटी की शादी हो चुकी है। तीसरा सबसे छोटा 17 वर्षीय सानू है, जो पिता संग बालूवाला में चिकन शॉप पर काम करता था। पिता की हत्या और मां के जेल चले जाने के बाद नाबालिग सानू बेसहारा हो गया है। अब आगे क्या होगा, इसी बात को लेकर सानू चिंताओं में डूबा हुआ है।

अवैध संबंध, संपत्ति और मौज-मस्ती बना हत्या का कारण
गुमान की हत्या का कारण अवैध संबंध, संपत्ति और मौज मस्ती रहा। मृतक की पूर्व पत्नी आशा ने संपत्ति-रुपये नहीं देने तथा गुमान की महिलाओं से नजदीकी से नाराज होकर प्रेमी के साथ सुनियोजित योजना बनाई। आशा ने गुमान को शराब के दो पव्वे और भोजन में नींद की गोली मिलाकर दीं थीं। गहरी नींद में गुमान का गला रस्सी से घोंट दिया। आशा ने गुमान को बालूवाला बुलाया था। उसने बताया कि मिस्सरवाला डोईवाला के गुमान से 22 वर्ष पूर्व उसकी शादी हुई थी। शादी के बाद आशा को पता चला कि पति गुमान की तीन से अधिक महिला मित्र हैं। आशा ने बताया कि उसने गुमान से समझौते की बात की और 22 नवंबर को बालूवाला घर में साथ रहने की योजना बनाई। इस पर गुमान उसके जाल में फंस गया।

गुमान की शिमला बाईपास पर हैं दुकानें और जमीन
आशा यादव ने पुलिस को बताया कि गुमान सिंह की शिमला बाईपास रोड पर डांडापुर में जमीन है। वहां पर दो दुकानें भी हैं। वह जमीन पर मकान का निर्माण करवा रहा था। लेकिन, बालूवाला घर बेचने के बाद उसे लगा कि गुमान सिंह इस संपत्ति को भी बेच देगा, जिससे बेटे और उसके हाथ कुछ नहीं लगेगा। उसे लगा था कि गुमान सिंह को रास्ते से हटाकर यह संपत्ति उनके हाथ लग सकती है।

समाचार पर आपकी राय: