दुनिया के इस शहर के 10 लाख लोग एक बार फिर हुए घरों में बंद, यही लगा था दुनिया का सबसे पहला लॉकडॉन

0
108

चीन ने वुहान के उस ज़िले में एक बार फिर लॉकडाउन लागू किया है जहां कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से दुनिया का सबसे पहला लॉकडाउन लागू किया गया था. इससे एक बार फिर यह चिंता बढ़ गई है कि क्या दुनिया में कोरोना एक बार फिर अपने पांव पसार सकता है. साल 2020 में वुहान के जियांगजिया में लॉकडाउन लागू किया गया था, जहां एक बार फिर दस लाख लोगों को घरों में बंद रहने के आदेश जारी किए गए हैं और बिना इमरजेंसी घर से बाहर निकले से सख़्ती से मना किया गया है. मंगलवार को शहर में चार बिना लक्षण वाले कोरोना मरीज़ों की पुष्टि के बाद सार्वजनिक ट्रांसपोर्ट पर भी रोक लगा दी गई है, सिनेमा हॉल में फिर ताले लगा लगा दिए गए हैं.

अन्य शहरों में भी लॉकडाउन का ख़तरा

हालांकि अभी यह प्रतिबंध सिर्फ एक ज़िले में ही सीमित है, जबकि हालात के बिगड़ने से अन्य शहरों में भी लॉकडाउन लगाने की आशंका बरक़रार है. महामारी की वजह से शहर के 11 मिलियन लोगों का जीवन सामान्य होने की तरफ बढ़ रहा था – लेकिन अब लॉकडाउन लागू करने की वजह से अन्य शहरों की भी चिंताएं बढ़ी है. चीन कोरोना वायरस संक्रमण के ख़िलाफ़ चीन लगाता अपनी ज़ीरो टॉलरेंस की नीति अपना रहा है और लॉकडाउन उसी नीति का एक हिस्सा है. संक्रमण के ख़तरे के बीच अधिकारियों ने टेस्टिंग की प्रक्रिया बढ़ा दी है और सख़्त नियम लागू करने पर मज़बूर हुए हैं.

शेनज़ेन में भी लागू किया जा सकता है लॉकडाउन, बढ़ रहे मामले

पूरे देश में मंगलवार को 604 मामलों की पुष्टि हुई थी जो उससे एक दिन पहले सोमवार को 868 मामलों की तुलना में कम है. अधिकारियों की नज़र शेनज़ेन पर भी है जहां चार मामले दर्ज किए गए और यहां कुल मामलों की संख्या 150 के पार पहुंच गई है. संक्रमण के ख़तरे के बीच शहर में कई नए नियम लागू किए गए हैं जिससे कंपनियों को हफ्ते में सातों दिन ताले लगाने पड़ रहे हैं – इससे एक बार फिर वैश्विक सप्लाई चेन बाधित होने की चिंताएं बढ़ी है.

शहरी सरकार ने 100 बड़ी कंपनियों जिनमें iPhone मेकर Foxconn और ऑयल प्रोड्यूसर Cnooc Ltd को निर्देश दिया है कि वे उन्हीं कर्मचारियों के साथ संचालन करें जो क्लोज़्ड लूप के हैं, और प्लांट के बाहर और भीतर – एक दूसरे के साथ कर्मचारियों को कम संपर्क में रहने के निर्देश दिए गए हैं. हालांकि शेनज़ेन के अधिकरायों का दावा है कि शहर में हालात क़ाबू में है – जहां ज़्यादातर मामलों की जल्दी पुष्टि की जा रही है और आइसोलेट किए जा रहे हैं.

समाचार पर आपकी राय: