घर के आंगन में अनाधिकृत प्रवेश करके बुजुर्ग दंपती से मारपीट करने के मामले में अदालत ने पुलिस को प्राथमिकी दर्ज करके जांच करने के आदेश दिए हैं। सुहड़ा मोहल्ले में 20 फरवरी को तीन महिलाओं सहित चार आरोपियों ने 80 वर्षीय शेर ङ्क्षसह और 65 वर्षीय तारा देवी के घर के आंगन में ड्रेन पाइप को उखाड़ कर तोड़ दिया। जब बुजुर्ग दंपति ने उन्हें ऐसा करने से रोका तो आरोपियों ने गाली गलौज करना शुरू कर दिया। जब शिकायतकर्ता शेर सिंह और तारा देवी ने उखाड़े गए ड्रेन पाइप को फिर से लगाने की कोशिश की तो आरोपितों ने तारा देवी को बालों से पकड़ कर उसे पत्थरों पर फेंक दिया और उससे बेरहमी से मारपीट करना शुरू कर दिया।

शिकायतकर्ता ने आरोपितों के चंगुल से पत्नी को छुड़ाने की कोशिश की लेकिन उन्हें भी एक पुरुष आरोपित ने आंख पर मुक्का मार दिया और मारपीट की। उक्त आरोपी ने तारा देवी से भी लात मुक्कों से मारपीट की। इस मारपीट से दंपति को चोटें आई थी। उन्हें एंबुलेंस में क्षेत्रीय अस्पताल ले जाया गया।

तारा देवी अस्पताल में दो दिन तक बेहोश रही और उन्हें 24 फरवरी को अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया। अस्पताल से पुलिस को सूचित करने पर जब शिकायतकर्ता की ओर से पुलिस को लिखित शिकायत देकर आवश्यक कार्यवाई के लिए कहा गया था। लेकिन पुलिस ने शिकायतकर्ता और तारा देवी के ही बयान लिखे। पुलिस ने आरोपितों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज नहीं की।

इसके बाद हालांकि शिकायतकर्ता कई बार पुलिस चौकी में गए लेकिन उन्हें प्राथमिकी की कापी नहीं दी गई। ऐसे में शिकायतकर्ता ने जिला पुलिस अधीक्षक को लिखित शिकायत देकर पूरी बात बताई थी और उखाड़े गए बाल भी दिखा कर प्राथमिकी दर्ज करने की प्रार्थना की थी। करीब एक महीना से अधिक इंतजार के बाद शिकायतकर्ता ने अपने अधिवक्ता के माध्यम से सूचना के अधिकार के तहत जानकारी मांगी तो उन्हें पता चला कि आरोपितों के खिलाफ कोई एफआइआर दर्ज नहीं हुई है और आरोपितों को बचाने के लिए मात्र रपट दर्ज करके 107/150,145 के तहत कलंदरा बनाकर एसडीएम कोर्ट को भेजा गया है। ऐसे में शिकायतकर्ता ने अधिवक्ता रवि बधान के माध्यम से अदालत में आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 156(3) के तहत याचिका दायर की थी। न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी कोर्ट नंबर दो आभा जम्वाल के न्यायालय ने याचिका की सुनवाई करते हुए मामले के रिकार्ड से पाया कि शिकायतकर्ता ने जान से मारने की धमकी, गंभीर चोट, अपराध करने की नीयत से अनधिकृत प्रवेश करने के आरोप लगाए हैं।

error: Content is protected !!