कांगड़ा में ठेकेदार की दादागिरी, सियासी रसूख के दम पर उखाड़ फेंकी गांव की सड़क

कांगड़ा। हिमाचल के कांगड़ा से बड़ी खबर सामने आई है। जहां एक सड़क ठेकेदार ने सियासी रसूख की धौंस दिखाई है। उसने गांव के रास्ते पर जेसीबी चलाते हुए सड़क को कुरेद कर फेंक दिया। इस बात की जानकारी मिलते ही पंचायत प्रधान मौके पर पहुंचे। और सड़क के उखाड़ने को लेकर कड़ा विरोध जताया।

दरअसल, पूरा मामला जमीन विवाद से जुड़ा है। कांगड़ा के इंदौरा गांव में एक सरकारी ठेकेदार ने सड़क की जमीन पर अपना मालिकाना हक जताते हुए बुलडोजर चला दिया। जब स्थानीय लोगों को रास्ता उखाड़ने की सूचना मिली तो उन्होंने मौके पर आकर जेसीबी ऑपरेटर को रोका। वहीं, ठेकेदार को गड्ढा खोदने का कारण पूछा। उक्त ठेकेदार ने धौंस दिखाते हुए जवाब दिया कि यह सड़क मेरी जमीन के तहत आती है। मैं इस सड़क को खोदकर अपनी जमीन में मिला रहा हूं।

ठेकेदार के जवाब को सुनकर स्थानीय लोगों ने मौके पर पंचायत प्रधान और उपप्रधान को बुलाया। ग्राम पंचायत पलाख की प्रधान ने उक्त ठेकेदार से रास्ता उखाड़े जाने का कारण पूछा। साथ ही उन्होंने कहा कि आप किसके नोटिस पर यह कार्य कर रहे हैं। उक्त ठेकेदार ने प्रधान को भी राजनीति की धौंस दिखाई। मामले को लेकर ग्रामीणों ने बताया कि वर्ष 2008-09 में यह जमीन स्थानीय लोगों ने सड़क बनाने के लिए लोक निर्माण विभाग को दी थी।

इसके एग्रीमेंट की कॉपी लोक निर्माण विभाग के साथ-साथ स्थानीय लोगों के पास भी है, जबकि उक्त ठेकेदार ने अपनी जमीन वर्ष 2019 में खरीदी है। स्थानीय जनता ने संबंधित विभाग और प्रशासन से मांग करते हुए कहा कि सरकार की संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वाले उक्त ठेकेदार पर कार्रवाई करें।

पंचायत पलाख की प्रधान सुषमा देवी ने बताया कि सेठी साहब नामक व्यक्ति ने बिना किसी नोटिस के यह कार्य किया है। इसकी खबर ना ही पंचायत को थी और ना ही विभाग को। जब मुझे स्थानीय लोगों का फोन आया तो मैंने मौके पर जाकर काम को रुकवाया। पंचायत की ओर से उक्त व्यक्ति के खिलाफ ठोस कार्रवाई करने के लिए प्रशासन को लिखा जा रहा है।

error: Content is protected !!