हिमाचल विधानसभा में पिछले दिनों हुआ हंगामें के बाद, कांग्रेस के विधायकों का निलंबन भले ही रदद् हो गया हो और उनको विधानसभा में बुला लिया गया हो। लेकिन यह हंगामा अभी भी थमने का नाम नही ले रहा। आज ऊना में सतपाल सिंह सत्ती ने एक कार्यक्रम के दौरान कांग्रेस के लोगों पर मुख्यमंत्री, विधानसभा उपाध्यक्ष और महामहिम राज्यपाल के पांव पकड़ने की बात कही। यह कार्यक्रम बचत भवन ऊना में मुख्यमंत्री राहत कोष से गरीबों को चेक बांटने के लिए रखा गया था। इस कार्यक्रम में सतपाल सिंह सत्ती ने कहा कि कांग्रेस की दो मुंही बातें रही है, मुख्यमंत्री के पांव पड़ते रहे। रोज शाम को उनके घर जाकर, मुख्यमंत्री से रिक्वेस्ट करते रहे और चोरी छिपे गवर्नर से भी मिलते रहे, और स्पीकर साहब के घर जाकर शाम को डेरा डाल देते थे, उनसे रिक्वेस्ट करते रहे कि उनको अंदर ले लो।

सतपाल सिंह सत्ती का बयान

उन्होंने कांग्रेस के लोगों की तुलना स्कूल के शरारती बच्चों से करते हुए आगे कहा कि जैसे शरारती बच्चे को स्कूल से निकल देते है, और फिर उनके मां बाप टीचर के आगे पीछे घूमते है स्कूल में जाकर, और रिक्वेस्ट करते है, ऐसे फिर इनके पिता श्री वीरभद्र सिंह आ गए थे। तो उनके और शांता कुमार के इंटरफेयरेन्स से अच्छा हुआ बहाल हो गए। लेकिन यह कहना सचाई की जीत हुई है अगर किसी की गाड़ी तोडना और किसी को धक्के देना सचाई है तो ऐसी सच्चाई कांग्रेस को ही मुबारक हो।

इस मामले में हमारी टीम ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से संपर्क करने की कोशिश की तो अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने फोन नही उठाया और बाकी लोगों से भी कोई बयान नही आया।

You have missed these news

error: Content is protected !!