आरसी फर्जीवाड़े में क्लर्क संजीव कुमार गिरफ्तार, कोर्ट ने दिया पांच दिन का रिमांड

Read Time:2 Minute, 38 Second

आरसी फर्जीवाड़ा में एसआइटी (स्पेशल इंवेस्टीगेशन टीम) ने जगाधरी एसडीएम कार्यालय के क्लर्क संजीव कुमार को गिरफ्तार किया है। आरोपित अंबाला के धनौरी गांव का रहने वाला है। लंबे समय से वह यहां कार्य कर रहा है। जांच में सामने आया कि उसने भी गाड़ियों के रजिस्ट्रेशन से संबंधित दस्तावेजों को वेरिफाई किया था। एसआइटी सदस्य इंस्पेक्टर राकेश मटोरिया ने बताया कि आरोपित संजीव को पांच दिन के रिमांड पर लिया गया है। उसे सेक्टर 17 थाना में दर्ज केस में गिरफ्तार किया गया है।

सिरसा पुलिस ने कई माह पहले डीलर सुनील चिटकारा को गिरफ्तार कर आरसी फर्जीवाड़ा का पर्दाफाश किया था। इसकी जांच जगाधरी एसडीएम कार्यालय तक पहुंची।

यहां से सिरसा पुलिस ने रिकार्ड जुटाया। इसके साथ ही तत्कालीन एसडीएम दर्शन कुमार ने सेक्टर 17 थाने में कंप्यूटर आपरेटर अमित के साथ तीन अन्य कर्मियों पर केस दर्ज कराया था। वहीं बाद में इसी तरह का फर्जीवाड़ा बिलासपुर एसडीएम कार्यालय में भी सामने आया। इसमें भी कंप्यूटर आपरेटर अमित पर केस दर्ज हुआ था।

बाद में स्थानीय स्तर पर एसआइटी बनी। जिसने केस की जांच शुरू कर दी थी। इस बीच आरोपित अमित ने सिरसा पुलिस को सरेंडर कर दिया। वहां पर उसे करीब दस दिन की रिमांड पर रखा गया था।

बाद में स्थानीय एसआइटी आरोपित अमित को बिलासपुर व जगाधरी में दर्ज केसों में रिमांड पर रखा। इसके साथ ही जगाधरी एसडीएम कार्यालय में तैनात एमआरसी राजेंद्र डांगी, बिलासपुर में तैनात एमआरसी संजीव व डीलर रोहतक निवासी सुनील को भी गिरफ्तार किया था। उनकी निशानदेही पर कुछ गाड़ियों भी रिकवर की गई थी। इसके साथ ही डीलर सोनीपत निवासी कृष्ण व रोहतक निवासी रामनिवास को भी गिरफ्तार किया जा चुका है।

error: Content is protected !!
Hi !
You can Send your news to us by WhatsApp
Send News!