Right News

We Know, You Deserve the Truth…

चीन का रॉकेट हिंद महासागर में गिरा:मालदीव के पास गिरे इस रॉकेट से दहशत में वॉर्नर, कहा- सुबह साढ़े 5 बजे जोरदार धमाके से नींद खुली

चीन का एक अनियंत्रित रॉकेट लॉन्ग मार्च-B का मलबा रविवार को मालदीव के पास हिंद महासागर में गिरा। वायुमंडल में दाखिल होने के बाद इसका अधिकतर हिस्सा जलकर खाक हो गया था। इस हादसे से मालदीव में क्वारैंटाइन ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर डेविड वॉर्नर दहशत में आ गए थे। उन्होंने द ऑस्ट्रेलियन को दिए बयान में कहा कि सुबह 5:30 पर हमें एक जोरदार धमाका सुनाई दिया और हम डर गए। इससे हमारी नींद भी खुल गई।रॉकेट क्रैश से खौफ में ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी
वॉर्नर ने कहा- एक्सपर्ट बताते हैं कि यह धमाका वायुमंडल में दरार पड़ने का था। इसकी वजह से ही आवाज सुनाई दी। इसका रॉकेट के गिरने से कोई लेना देना नहीं था। रविवार को कई लोगों ने कॉमेट की तरह किसी चीज को महासागर की तरफ बढ़ते देखा था। वॉर्नर के साथ 37 ऑस्ट्रेलियान प्लेयर्स, स्टाफ और अंपायर्स फिलहाल मालदीव में क्वारैंटाइन पीरियड बिता रहे हैं।

पहले कहीं ओर गिरने वाला था रॉकेट
दरअसल, चीनी रॉकेट लॉन्ग मार्च-B के दक्षिणपूर्वी अमेरिका, मेक्सिको, मध्य अमेरिका, करेबियन, पेरू, ईक्वाडोर कोलंबिया, वेनेजुएला, दक्षिण यूरोप, उत्तर या मध्य अफ्रीका, मध्य पूर्व, दक्षिण भारत या ऑस्ट्रेलिया में गिरने की संभावना जताई जा रही थी। पर इसका मलबा मालदीव के पास गिरा।चीन पर लगे लापरवाही के आरोप
चीन का यह रॉकेट 100 फीट लंबा है। इसका वजन 21 टन है। लॉन्ग मार्च 5बी रॉकेट को 29 अप्रैल को चीन के हाइनान द्वीप से लॉन्च किया था। यह चीन के इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन के प्रमुख मॉड्यूल को पृथ्वी के निचली कक्षा की ओर ले जा रहा था। रॉकेट का अधिकतर हिस्सा वातावरण में घुसने के साथ ही जलकर राख हो गया। अनियंत्रित होकर पृथ्वी पर गिरे इस रॉकेट को लेकर चीन पर लापरवाही के आरोप भी लगे।

error: Content is protected !!