छत्तीसगढ़ सरकार ने इन्कार के बाद आखिरकार 1 मई से 18 से 45 साल तक के लोगों का टीकाकरण करने का फैसला किया है। साथ ही सरकार ने राज्य के कोटे से होने वाले वैक्सीनेशन प्रोग्राम के लिए सामाजिक-आर्थिक आरक्षण लागू करने का भी ऐलान किया है।

इस व्यवस्था के तहत सबसे पहले अन्त्योदय राशन कार्डधारी सबसे गरीब लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंत्रियों और अफसरों के साथ मीटिंग के बाद यह घोषणा की है।

सीमित सेटर्स पर शुरू होगा वैक्सीनेशन
स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने बताया, वैक्सीन की कमी को देखते हुए एक बड़ी आबादी को वैक्सीन लगाना मुमकिन नहीं है। ऐसे में जो वैक्सीन सरकार के पास उपलब्ध है उसी के साथ वैक्सीनेशन प्रोग्राम सीमित सेंटर्स पर शुरू किए जाएंगे।

उन्होंने आगे बताया कि इस टीकाकरण में सामाजिक न्याय का ध्यान रखा जाएगा। सबसे पहले अन्त्योदय राशन कार्ड वाले अति गरीब लोगों में से 18 से 45 वर्ष आयु वर्ग के लोगों को यह टीका लगेगा। उसके बाद BPL कार्ड धारी गरीबी रेखा से नीचे के लोगों को टीका लगाया जाएगा। सबसे बाद में सामान्य (APL) कार्ड वाले लोगों को इसका लाभ मिलेगा।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर टीकाकरण में सामाजिक-आर्थिक रूप से कमजोर तबकों के लिए प्राथमिकता की मांग की थी। बाद में स्पष्ट हुआ कि राज्य सरकार के खर्च से हो रहे टीकाकरण में वह ऐसे वर्गों के लिए खुद ही प्राथमिकता तय कर सकते हैं। इसके बाद हमने सामाजिक-आर्थिक आरक्षण लागू करने का फैसला किया है।

हर ब्लॉक में 800 वैक्सीन ही जाएगी
सिंहदेव ने बताया, हवाई जहाज से 11.30 बजे तक वैक्सीन की 1.5 लाख डोज भेजी जाएगी। 12 बजे वैक्सीन डीपो पहुंच जाएगी। हम कोशिश करेंगे कि कल जितने जिलों में पहुंच सकती है वहां पहुंचा कर टीकाकरण शुरू करा दिया जाए।

योजना है कि रायपुर, दुर्ग और बिलासपुर संभाग के जिलों में कल से टीकाकरण शुरू हो जाए। बस्तर और सरगुजा संभाग में टीकाकरण 2 मई से शुरू होगा। शुरुआत में प्रत्येक ब्लॉक में 800 डोज और नगर निगमों में 2300 डोज भेजी जा रही है। सभी कलेक्टरों को तैयारी करने को कहा है।

45 + वालों से अलग बनेगा केंद्र
टीएस सिंहदेव ने बताया कि 18 से 45 वर्ष आयु वर्ग के लोगों के टीकाकरण के लिए अलग से केंद्र बनाए जाएंगे। यह 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के वैक्सीनेशन केंद्र से अलग होंगे।

पंजीयन की जरूरत नहीं, राशनकार्ड और आधार जरूरी होगा
छत्तीसगढ़ में कल से शुरू हो रहे टीकाकरण अभियान के लिए कोविन पोर्टल पर पंजीयन की जरूरत नहीं है। इसके लिए उन्हें राशन कार्ड और आधार लेकर जाना होगा। टीका लगवाने वालों का रजिस्टर में रिकॉर्ड रखने के साथ ही राशनकॉर्ड पर टीकाकरण की तारीख एवं अन्य प्रविष्टि दर्ज होगी।

इसमें टीके की दूसरी डोज लगवाने की संभावित तारीख भी दर्ज होगी। पुलिस को निर्देशित किया गया है कि वैक्सीनेशन केंद्र में केवल अंत्योदय राशनकॉर्डधारियों को ही प्रवेश दें।

पंजीयन के लिए अलग सॉफ्टवेयर बनाएगी सरकार
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा अंत्योदय परिवार समाज का सबसे गरीब हिस्सा है। इन परिवारों के पास मोबाइल की उपलब्धता कम है। दूरस्थ अंचलों में नेटवर्क की भी समस्या है। केंद्र सरकार के कोविन एप में पंजीयन के लिए मोबाइल नंबर अनिवार्य है।

अंत्योदय परिवारों के 18 वर्ष से 45 वर्ष के सदस्यों के टीकाकरण के लिए राज्य सरकार अपनी खुद की व्यवस्था तैयार कर रही है। इसके लिए अलग सॉफ्टवेयर बनाया जा रहा है।

error: Content is protected !!