कोरोना काल में सरकार ने किए टांडा मेडिकल कॉलेज के 5 डॉक्टर के तबादले

कोरोना काल के दौरान प्रदेश के दूसरे बड़े मेडिकल कॉलेज से प्रदेश सरकार ने आनन फ़ानन में डॉक्टरों के तबादले कर दिए हैं | जानकारी के अनुसार डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कॉलेज आनन फ़ानन में डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कॉलेज टांडा से सुबह 13 डॉक्टरो क़ा तबादला किया गया जिसमें शाम होते होते 8 डॉक्टरों का तबादला कैन्सल कर दिया व बाकी 5 विशेषज्ञ डॉक्टरों को चबा व हमीरपुर मेडिकल कॉलेज में तबादला कर दिया गया | कोरोना काल के दौरान टांडा मेडिकल कॉलेज से सरकार द्वारा इन डॉक्टरों का तबादला करने के बाद काँग्रेस पार्टी ने भी प्रदेश सरकार को आड़े हाथों लिया है | काँग्रेस पार्टी के नेताओं का कहना है कि टांडा मेडिकल कॉलेज 6 जिलों के लोगों को स्वास्थ्य सुविधा प्रदान करता है तथा वैसे ही टांडा मेडिकल कॉलेज में डॉक्टरों की कमी देखने को मिलती है और ऐसे समय में प्रदेश सरकार द्वारा डॉक्टरों का तबादला करना कांगड़ा के साथ एक बार फिर सौतेला व्यवहार करना दर्शाता है |काँग्रेस का कहना है कि कोराना काल के दौरान रोगियों जहां पहले डॉक्टरो पर काम क़ा दबाव बहुत हे इसके बाबजुद दिन रात रोगियों की सेवा करके रोगियों को बेहतर उपचार सुविधा देने में अग्रणी भूमिका निभा रहे मेडिकल कॉलेज टांडा प्रोफ़ेसर स्तर के विशेषज्ञ डॉक्टरों को मेडिकल कॉलेज हमीरपुर और मेडिकल कॉलेज चंबा के तबादला आदेश जारी हुए और हैरानी इस बात की कि बुधवार को ही कॉलेज प्रशासन ने उन्हें यहां से रिलीव कर शीघ्र अगले स्टेशन पर ड्यूटी ज्वाइन करने के आदेश जारी किए हैं। अब इन डॉक्टरों के तबादले होने के बाद रोगियों को उपचार में दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। वहीं डॉ राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कॉलेज टांडा के प्रिंसिपल डॉ भानु अवस्थी का कहना है कि प्रदेश सरकार की तरफ से कॉलेज के विभिन्न विभागों के 5 प्रोफेसर व एसोसिएट प्रोफेसर स्तर के विशेषज्ञ चिकित्सकों के तबादला आदेश मेडिकल कॉलेज हमीरपुर और चंबा को जारी किए गए हैं

error: Content is protected !!