Unemployment in Himachal: जूनियर ऑफिस असिस्टेंट के एक पद के लिए 22,410 अभ्यर्थियों ने किया आवेदन

0
186

हमीरपुर : देश में बेरोजगारों की बढ़ती फौज का आंकड़ा सोशल मीडिया से लेकर अखबारों की सुर्खियां बटोरता है. देश में बेरोजगारी का क्या आलम है इसकी बानगी हिमाचल में देखने को मिल रही है. जहां जूनियर ऑफिस असिस्टेंट के एक पद की भर्ती के लिए बेरोजगारी की फौज उमड़ गई, आलम देखिये की उस एक पोस्ट के लिए बकायदा एग्जाम होने वाला है और परीक्षा केंद्र तक तय हो गए हैं.

1 पोस्ट, 43 परीक्षा केंद्र और 10,000 कैंडिडेट- हिमाचल प्रदेश स्टाफ सेलेक्शन कमीशन की ओर से टेक्निकल यूनिवर्सिटी हमीरपुर में जूनियर ऑफिस असिस्टेंट के एक पद पर भर्ती के लिए आवेदन मांगे गए थे. जिसके लिए अगले रविवार यानी 9 अक्टूबर को परीक्षा होनी है. खास बात ये है कि इस एक पद के लिए 10,386 कैंडिडेट्स को रोल नंबर भी भेजे जा चुके हैं. पूरे प्रदेश 43 केंद्रों पर ये कैंडिडेट सिर्फ एक पद के लिए परीक्षा देंगे. इस तरह एक पद के लिए 10 हजार कैंडिडेट का परीक्षा देना लगभग तय है.

22,000 ने किया था आवेदन- परीक्षा देने वाले कैंडिडेट्स की संख्या और भी बढ़ सकती है क्योंकि इस एक पद के लिए करीब 22,410 आवेदन आए थे. लेकिन करीब 12 हजार आवेदकों ने अब तक फीस जमा नहीं करवाई है. आवेदकों के पास फीस भरने का आखिरी मौका 3 अक्टूबर तक है. अगर कुछ और आवेदक फीस जमा करवाते हैं तो उन्हें भी रोल नंबर दे दिया जाएगा. दरअसल प्रदेश भर में जो 43 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं, वहां 12,000 कैंडिडेट्स के बैठने की क्षमता है.

एक पद के लिए ही क्यों निकाली भर्ती- दरअसल HPSSC ने प्रदेश के विभिन्न विभागों के लिए अगस्त महीने में जूनियर ऑफिस असिस्टेंट (आईटी) के 198 पदों को भरने की नोटिफिकेशन निकाली थी. जिसके लिए शैक्षणिक योग्यता 12वीं और कंप्यूटर डिप्लोमा रखी गई थी. इसके साथ ही तकनीकी विश्वविद्यालय हमीरपुर में जूनियर ऑफिस असिस्टेंट की भर्ती का विज्ञापन अलग से निकाला गया. दरअसल ऐसा करने की वजह शैक्षणिक योग्यता थी, तकनीकी विश्वविद्याल के एक पद के लिए योग्यता ग्रेजुएशन और कंप्यूटर डिप्लोमा तय की गई थी. इसलिये इस एक पद से लिए अलग से भर्ती परीक्षा का आयोजन किया जा रहा है. सोचने वाली बात ये है कि अगर इस पद के लिए भी शैक्षणिक योग्यता 12वीं होती तो फिर कई गुना आवेदन आ सकते थे.

कितनी रखी गई थी फीस- इस एक पद पर भर्ती परीक्षा को लेकर सामान्य वर्ग के लिए 360 रुपये और आरक्षित वर्ग के लिए 120 रुपये की फीस रखी गई थी. महिला अभ्यर्थियों के लिए कोई भी फीस नहीं रखी गई. इस परीक्षा के आयोजन से आयोग को लाखों की कमाई तो हुई है लेकिन एक पद के लिए 10 हजार से ज्यादा अभ्यर्थियों के लिए 43 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं. ऐसे में परीक्षा करवाने में खर्च भी आएगा. (22 thousand applications for one post in hptu)

हर जिले में बनाए गए हैं परीक्षा केंद्र- हिमाचल प्रदेश कर्मचारी चयन आयोग के सचिव जितेंद्र कंवर के मुताबिक जिस भर्ती परीक्षा में 5 हजार से अधिक आवेदन प्राप्त होते हैं. उसके लिए प्रदेशभर में परीक्षा केंद्र स्थापित किए जाते हैं. पोस्टकोड 1000 जेओए आईटी के एक पद को भरने के लिए लिखित परीक्षा के लिए प्रदेशभर में 43 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं. जिसकी तैयारी पूरी कर ली गई है और इस संबंध में सभी जिला के डीसी, एसपी और एसडीएम को सूचित कर दिया गया है.

आयोग के मुताबिक हिमाचल के सभी 12 जिलों में परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं. जिला शिमला से सबसे अधिक 2230 कैंडिडेट्स को रोल नंबर जारी किया गया है इसलिये सबसे ज्यादा 9 परीक्षा केंद्र शिमला जिले में हैं. इसके अलावा बिलासपुर जिले में तीन, चंबा में एक, हमीरपुर में पांच, कांगड़ा में सात, किन्नौर में एक, कुल्लू में दो, लाहौल स्पीति में एक, मंडी में छह, सिरमौर में दो, सोलन में चार और ऊना जिले में दो परीक्षा केंद्र स्थापित किए गए हैं. इन परीक्षा केंद्रों पर एक पद के लिए 10 हजार कैंडिडेट अपनी किस्मत आजमाएंगे. सरकारी नौकरी के एक पद के लिए 22 हजार आवेदन हिमाचल में बेरोजगारी की बानगी बताने के लिए काफी है. आने वाले दिनों में हिमाचल में विधानसभा चुनाव होने हैं, जिसमें बेरोजगारी बड़ा मुद्दा बन सकती है.

समाचार पर आपकी राय: