Right News

We Know, You Deserve the Truth…

कोरोना से जंग में सरकार के साथ आए कारोबारी

कोरोना के खिलाफ चल रही लड़ाई में हिमाचल प्रदेश में मौजूद कारपेरेट घराने सरकार की मदद को आगे आए हैं। सरकार ने हाल ही में एक प्रयास किया था, जिसके सार्थक नतीजे निकलकर आए हैं। एक विशेष कमेटी को कारपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी (सीएसआर) के तहत कारपोरेट जगत से मदद जुटाने का जिम्मा सौंपा गया। इस कमेटी के गठन के साथ मदद भी शुरू हो गई और कई नामी कंपनियों ने इस जंग में सरकार की मदद को हाथ आगे बढ़ाए हैं। जहां एक तरफ निजी कंपनियां सरकार को आर्थिक रूप से कोविड रिलीफ फंड में मदद कर रही हैं, वहीं हिमाचल में स्थापित इन कंपनियों ने अपनी सामाजिक जिम्मेदारी को निभाते हुए सरकार को और भी मदद दी है। इसका एक विस्तृत ब्यौरा सामने आया है। जानकारी के अनुसार हिमाचल में सीमेंट उत्पादन कर रही अंबुजा दाड़ला ने सरकार को सीएसआर के तहत 300 बिस्तर, एक वाहन और 100 ऑक्सीजन सिलेंडर मुहैया करवाने को कहा है। बिस्कुट बनाने की मशहूर कंपनी क्रिमिका ने फूड आइट्म से भरा एक ट्रक देने को कहा है। इसी तरह से हिमाचल में मौजूद डाबर कंपनी ने च्यवनप्राश के 15 हजार डिब्बे देने का ऐलान किया है।

आईटीसी कंपनी ने फूड आइटम्स का एक ट्रक देने को कहा है। वहीं, नामी कंपनी मैरिको ने सरकार को 10 क्विंटल सफोला ओट्स उपलब्ध करवाने के लिए कहा है, जबकि यूनाइट बिस्कुट कंपनी ने बिस्कुट के 50 डिब्बे देने को कहा है। प्रदेश में चल रही वर्धमान टैक्सटाइल कंपनी ने एक करोड़ कैश राशि स्टेट डिजास्टर रिलीफ फंड में देने का एलान किया है। इसी तरह से कोस्मो कंपनी ने 3550 विटामिन सी, 5190 फ्रूट बास्केट तथा 9600 पल्स ऑक्सीमीटर, 2000 ऑक्सीजन सिलेंडर व 5000 रेगुलेटर देने को हामी भरी है। बद्दी, बरोटीवाला, नालागढ़ इंडस्ट्रियल एसोसिएशन ने 31 लाख रुपए की नकद राशि देने को कहा है। टीवीएस मोटर कंपनी ने 50 लाख कैश रिलीफ फंड में देने की हामी भरी है, जबकि मलाणा पावर कंपनी ने 700 ऑक्सीमीटर व 1500 मास्क देने की बात कही है। इंडस्ट्रियल एसोसिएशन परवाणू ने सरकार को 20 सिलेंडर, मास्क, सेनेटाइजर, 10 लेट्स आइसोलेशन के लिए, ऑक्सीजन जेनरेटर प्लांट ईएसआई परवाणू के लिए देने को कहा है। एडी हाइड्रो पावर लिमिटेड 50 ऑक्सीजन सिलेंडर डीसी कुल्लू को देगी, वहीं एचपी फार्मा एसोसिएशन 80 ऑक्सीजन सिलेंडर, एलीन इलेक्ट्रॉनिक्स ने 51 हजार रुपए रिलीफ फंड में व पतिकारी पॉवरर्स ने एक लाख रुपए कैश स्टेट डिजास्टर रिलीफ फंड के लिए दिए हैं।

सरकार ने बनाई कमेटियां

सरकार ने कुछ दिनों पूर्व ही चार कमेटियां बनाई हैं, जिसमें से एक सीएसआर कमेटी है, जिसकी कमान आइएएस अधिकारी आबिद हुसैन सादिक को सौंपी गई है। इसमें उद्योग विभाग व स्वास्थ्य महकमे के अधिकारी शामिल हैं। इसके अलावा दूसरी कमेटियां भी हैं, जो अपना काम बखूबी कर रही हैं।

लाहुल की यंग ड्रकपा एसोसिएशन कर रही लोगों की मदद

शिमला । लाहुल स्पीति स्थित यंग ड्रकपा एसोसिएशन नामक एनजीओ (वाईडीए) ने कोरोना जैसे मुश्किल दौर में लाहुल-स्पीति के दुर्गम गांवों तक हरसंभव मदद पहुंचाई। एनजीओ के अध्यक्ष सुशील कुमार के अनुसार पिछले साल जब संपूर्ण लॉकडाउन लगा था, तब वाईडीए द्वारा दूरस्थ गांवों में जाकर लोगों को कोरोना के प्रति जागरूक करने के साथ गांवों का सेनेटाइजेशन व सुरक्षाकर्मियों को पीपीई किट भी उपलब्ध करवाईं। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के दौरान जो लेबर यहां फंस गई थी, उन्हें वाईडीए की किचन, जिसका नाम किचन ऑफ लव है, वहां एनजीओ ने जरूरतमंदों को राशन और जरूरी दवाइयां भी वितरित की हैं।

संक्रमित परिवारों को घर-द्वार मिल रहा तीन वक्त का खाना



कोरोना कर्फ्यू के दौरान फिर से आर्ट ऑफ लिविंग की वूमन क्लब की टीम जनता की सहायता के लिए जुट गई है। इसके लिए लोगों के घर-घर जाकर जरूरी सामान पहुंचाने से लेकर कोरोना पीडि़तों के घर तक पका-पकाया तीन समय का खाना भी पहुंचाया जा रहा है। साथ ही सिविल हॉस्पिटल सुंदरनगर व बीबीएमबी हॉस्पिटल कालोनी में कोविड-19 मरीजों के लिए प्रतिदिन सुबह काढ़ा बनाकर क्लब की टीम के द्वारा भिजवाया जा रहा है। साथ ही लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल कालेज नेरचौक 22 लीटर के दो वाटर जग और सिविल हॉस्पिटल सुंदरनगर में 12 लीटर का एक एक्वागार्ड लगवाया गया है। इसकी मांग दोनों अस्पतालों के प्रशासन के द्वारा की गई थी। क्लब की मीडिया प्रभारी रुचि ने बताया कि इसके लिए क्लब की निदेशक रितु खरबंदा व प्रधान नरेंद्र कौर सावा द्वारा अथक प्रयास किए जा रहे हैं। वह पूरी टीम को एकजुट करके उनमें नया उत्साह भर रही हैं और इससे वह अपने प्रयास पूरा करने में सक्षम हो पा रहे हैं। उन्होंने अनुरोध किया है कि अगर जनता भी उनकी इस मुहिम से जुड़ना चाहे या उसका किसी तरह से सहयोग करना चाहते हैं, तो वे कभी भी क्लब के लोगों से संपर्क कर सकते हैं। साथ में ही उन्होंने मीडिया का भी धन्यवाद किया है, क्योंकि उनकी सहायता से ही वे इस मुहिम को आगे तक ले जाने में सक्षम हो पाए हैं।

error: Content is protected !!