आरबीआई ने इन तीन बैंकों पर लगाए कई प्रतिबंध, निकासी सीमा 10 हजार की तय

0
27

अगर आपका भी इन बैंकों में खाता है तो बता दें कि भारतीय रिजर्व बैंक ने तीन बैंकों पर प्रतिबंध लगा दिया है, जिसका सीधा असर ग्राहकों पर पड़ने वाला है। RBI ने 3 को-ऑपरेटिव बैंकों पर कई तरह के प्रतिबंध, उनकी व‍ित्तीय हालत को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। इसमें पैसा निकासी की लिमिट भी तय की गई है यानी कि आप आरबीआई द्वारा तय किए गए रुपए तक ही निकासी कर सकेंगे।

इसके अलावा रिजर्व बैंक ने लोन देने या फिर शेयर बाजार में निवेश करने पर भी इन बैंकों पर प्रतिबंध लागू कर दिया है। आरबीआई ने जयप्रकाश नरायण नगरी सहकारी बैंक, बासमतनगर पर बैन लगाया है, जहां के ग्राहक एक भी रुपए नहीं निकाल सकते हैं। वहीं आरबीआई के एक और स्‍टेटमेंट में अनुसार, द करमाला अर्बन को-ऑपरेटिव बैंक, सोलापुर के जमाकर्ता अपने खातों से केवल 10,000 रुपए तक ही निकाल सकते हैं।

आरबीआई ने दुर्गा को-ऑपरेटिव अर्बन बैंक , विजयवाड़ा पर भी प्रतिबंध लगा दिया है। हालाकि यहां के ग्राहक अपने खाते से 1.5 लाख रुपए तक की निकासी कर सकते हैं। बैंकिंग विनियमन अधिनियम, 1949 के तहत तीन बैंकों पर लगाए गए प्रतिबंध रिजर्व बैंक छह महीने के लिए लागू रहेंगे और समीक्षा के अधीन हैं।

प्रतिबंधों के हिस्से के रूप में, दो सहकारी बैंक कर्ज नहीं दे सकते हैं, कोई निवेश नहीं कर सकते हैं, कोई दायित्व नहीं उठा सकते हैं – जिसमें धन उधार लेना और नई जमा की स्वीकृति, संपत्तियों या संपत्तियों का वितरण या निपटान शामिल है। आरबीआई ने कहा कि तीन कर्जदाता को निर्देश जारी करने को बैंकिंग लाइसेंस रद्द करने के रूप में नहीं माना जाना चाहिए। बैंक अपनी वित्तीय स्थिति में सुधार होने तक प्रतिबंधों के साथ बैंकिंग व्यवसाय करना जारी रखेंगे।

गौरतलब है कि पिछले दिनों रिजर्व बैंक ने दो अन्‍य को-ऑपरेटिव बैंक लखनऊ और सीतापुर पर वित्तीय स्थिति को लेकर प्रतिबंध लगाया था। लखनऊ सहकारी बैंक से कोई भी कस्‍टमर 30,000 रुपए तक और सीतापुर वाले बैंक से कोई भी ग्राहक 50 हजार से अधिक की निकासी नहीं कर सकता है। इसके अलावा इन बैंकों पर आरबीआई की ओर से इस वजह से लोन देने, निवेश करने या फिर नई जमा योजना पेश करने पर भी रोक लगाया गया है।

Leave a Reply