BHEL का तिमाही घाटा हुआ कम, कंपनी का रेवन्यू 61 प्रतिशत बढ़ा

0
30

भारत की सबसे बड़ी निर्माण कंपनियों में से एक भारत हेवी इलेक्ट्रिकल लिमिटेड(BHEL) को फाइनेंशियल ईयर 2022– 23 की पहली तिमाही में 191.85 करोड़ का घाटा हुआ है। हालांकि भेल को पिछले साल की तुलना में 61.03 प्रतिशत से ज्यादा राजस्व भी मिला है।

अगर हम कंपनी को हुए घाटे को देखें तो पिछले फाइनेंशियल ईयर की पहली तिमाही में यह घाटा 445.440 करोड़ था जो इस साल घटकर 191.85 करोड़ हो गया। वही रेवेन्यू से मिलने वाले आय की बात करें तो पिछले फाइनेंशियल ईयर की पहली तिमाही में यह कुल 2,901.32 करोड़ रुपये था जो इस साल बढ़कर 4,672 करोड़ हो गया।

रिजल्ट के बाद BHEL के शेयरों में गिरावट
परिणाम आने के बाद BSE पर BHEL के शेयरों में कमी आने लगी। गुरुवार को दोपहर करीब 3 बजे BHEL के शेयर में 1.22 प्रतिशत की गिरावट आई है। दोपहर 3:00 बजे BHEL का शेयर 52.55 रूपये पर ट्रेड कर रहा है जो दिन के निचले स्तर 52 रूपए के करीब है। फाइनेंशियल ईयर 2023 की पहली तिमाही में BHEL की बिक्री 4,449.49 करोड़ रही, जो फाइनेंशियल ईयर 2022 की पहली तिमाही में 2,723.82 करोड़ थी। यह बिक्री 2022 के मुकाबले 63 प्रतिशत अधिक थी लेकिन यह फाइनेंशियल ईयर 2022 के चौथे तिमाही के 7,599.96 करोड़ से 41.45 प्रतिशत कम थी।

भारत की सबसे बड़ी निर्माण कंपनियों में एक है BHEL
BHEL भारत में अपनी तरह की सबसे बड़ी इंजीनियरिंग और निर्माण कंपनियों में से एक है, जो 180 से अधिक तरह के सामानों का उत्पादन करता है। BHEL के उत्पादनों और सेवाओं की एक बड़ी संख्या डिजाइन, इंजीनियरिंग, निर्माण, परीक्षण, कमीशनिंग और सर्विसिंग में लगी हुई है ताकि देश की बढ़ती जरूरतों को पूरा किया जा सके। पिछले महीने हीं BHEL ने तेलांगना के एनटीपीसी रामागुंडम में 100 मेगावाट की क्षमता वाले भारत के सबसे बड़े फ्लोटिंग सोलर पीवी प्लांट के निर्माण कार्य को पूरा किया।

Leave a Reply