राजस्थान में आठ करोड़ की ठगी करने वाले बंटी- बबली गिरफ्तार, 40 फीसदी मुनाफे का देते थे झांसा

Read Time:4 Minute, 35 Second

Rajsthan News : एक माह में 40 फीसद से अधिक मुनाफा देने का झांसा देकर लोगों के आठ करोड़ रुपये से अधिक की राशि लेकर उदयपुर से चंपत हुए ‘बंटी-बबली’ को पुलिस ने दिल्ली से गिरफ्तार किया है। गुरुवार को अदालत ने दोनों को छह दिन की पुलिस रिमांड पर सौंपा है। इस बीच, लोगों के निवेश की राशि तथा ठगी में उनके लिए सहयोग करने वाले लोगों के बारे में पूछताछ की जाएगी। पुलिस सूत्रों ने बताया कि गिरफ्तार आरोपितों में गुजरात मूल का युवक प्रशांत पुष्पानी तथा अरुणाचल प्रदेश की युवती यापी बाजा शामिल हैं। प्रशांत यहां उदयपुर में किराए का कमरा लेकर रहता था और नाथद्वारा रोड स्थित अनंता रिसोर्ट में चालक था।

इसी दौरान उसकी पहचान अरुणाचल प्रदेश की युवती यापी से हुई और दोनों ने ठगी की योजना बनाई। शुरुआत में दोनों ने लोगों को छोटे निवेश कर एक महीने में चालीस फीसद लाभांश की योजनाएं बताईं। उसने अपने साथ काम करने वाले अन्य ड्राइवरों को शेयर मार्केट, बिट कॉइन सहित अन्य स्कीमें बताईं थी। जिस पर उन लोगों ने एक-एक हजार रुपये का निवेश किया और उन्हें हर महीने चार सौ रुपये का लाभांश दिया। कुछ महीनों के विश्वास के बाद कई लोग अधिक लाभांश के लालच में आकर उनसे जुड़ते गए और बड़ी रकम लगाना शुरू कर दी जो करोड़ों में पहुंच गई। आठ करोड़ से अधिक की राशि का निवेश होने पर प्रशांत चार मई से अपनी महिला मित्र के साथ फरार हो गया।

इस मामले में पहली बार ठगी की शिकायत रामकेश नामक निवेशधारक ने पुलिस अधीक्षक से की थी। उसने बताया कि उसने अपनी जमा पूंजी के 23 लाख रुपये प्रशांत पुष्पानी को दिए थे। इसके एवज में प्रशांत ने उसे कागजात भी मुहैया कराए थे। इसमें हर महीने रकम पर 40 फीसद तक लाभ देने की बात कही थी। कुछ दिन बीत जाने के बाद प्रशांत ने उससे बातचीत बंद कर दी। अंबामाता थाना क्षेत्र में बने ऑफिस को बंद कर उदयपुर से ही फरार हो गया।

उदयपुर ही नहीं कई शहरों में दिया ठगी को अंजाम

प्रशांत और उसकी महिला मित्र ने उदयपुर ही नहीं, बल्कि अजमेर, राजसमंद, बांसवाड़ा, कोटा, जोधपुर और अहमदाबाद समेत प्रदेश के कई शहरों में आम जनता को रकम दोगुना करने का लालच देकर करोड़ों रुपये की ठगी की थी।

पकड़े गए

ठगी के आरोपित युगल की तलाश में पुलिस को कई राज्यों की खाक छाननी पड़ी। अंबामाता थाना अधिकारी सुनील टेलर ने बताया कि साइबर टीम की मदद और मुखबिरों की सूचना पर पुलिस की टीम प्रशांत को पकड़ने में सफल रही। पुलिस उसे पकड़ने उसकी लोकेशन के आधार पर गुवाहाटी, डिब्रूगढ़, गोरखपुर,लखनऊ भी पहुंची, लेकिन वह लगातार जगह बदलता रहा। अंत में प्रशांत और उसकी महिला मित्र दिल्ली से पकड़े गए। पुलिस ने उनसे आठ मोबाइल फोन और 15 सिम कार्ड भी बरामद किए।

Share This News:

Get delivered directly to your inbox.

Join 897 other subscribers

error: Content is protected !!
Hi !
You can Send your news to us by WhatsApp
Send News!