हिमाचल: मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने बजट में बड़ी घोषणाएं की हैं। इनमें जहां करोड़ों रुपए का निवेश होना प्रस्तावित है, वहीं आपको बता दें कि रोजगार की दृष्टि से भी यह परियोजनाएं अहम साबित होंगी। हालांकि केंद्र ने अभी तक इनकी घोषणा नहीं की है, मगर जिस तरह से मुख्यमंत्री ने अपने बजट में इनका उल्लेख किया है उससे संकेत मिलता है कि हिमाचल को यह योजनाएं आने वाले समय में मिलने वाली हैं।

वर्ष 2019 में हिमाचल प्रदेश सरकार ने इन्वेस्टर मीट का आयोजन किया था, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वयं मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे थे। और लगभग 96,000 करोड़ रुपए के 700 से अधिक समझौता ज्ञापन इन्वेस्टर मीट में हस्ताक्षरित किए गए थे। एक महीने के अंदर ही दिसंबर, 2019 में लगभग 13,000 करोड़ रुपए के समझौता ज्ञापन की पहली ग्राउंड ब्रेकिंग की थी। कोरोना काल के दौर में व्यवधान आए फिर भी कम से कम 10,000 करोड़ रुपए की दूसरी ग्राऊंड ब्रेकिंग के लिए सरकार पूरी तरह से तैयार है।

साथ ही सीएम ने कहा कि मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना के अंतर्गत अब तक तीन हजार से अधिक आवेदन बैंकों द्वारा स्वीकृत किए जा चुके हैं, जिनके माध्यम से लगभग 10 हजार लोगों को रोजगार के अवसर उत्पन्न हुए हैं। योजना को अब ऑनलाइन किया गया है। अनुदान राशि के 60 प्रतिशत भाग की फ्रंट लोडिंग का प्रावधान भी कर दिया गया है। इस योजना के अंतर्गत अब परियोजना लागत की वर्तमान 60 लाख रुपए की सीमा को बढ़ाकर एक करोड़ रुपए करने का प्रस्ताव भी किया गया है। साथ ही पात्र प्लांट व मशीनरी की सीमा, जिस पर अनुदान दिया जाता है, को वर्तमान 40 लाख से बढ़ाकर 60 लाख करने का भी प्रस्ताव बजट में सीएम ने किया है। योजना पर 2021-22 में 100 करोड़ रुपए व्यय किए जाने हैं।

By

error: Content is protected !!