यूनाइटेड किंगडम की गृह मंत्री प्रीति पटेल ने नीरव मोदी के प्रत्यर्पण को मंजूरी दे दी है। सीबीआई (CBI) अधिकारी ने इस बात की जानकारी दी। भगोड़े नीरव मोदी पर पंजाब नेशनल बैंक (PNB) से करीब दो अरब डॉलर की धोखाधड़ी का आरोप है। यूनाइटेड किंगडम की गृह मंत्री ने जालसाजी और धनशोधन के आरोपों पर भारत में वांछित हीरा कारोबारी नीरव मोदी के प्रत्यर्पण को मंजूरी दे दी है। नीरव मोदी के पास अपने प्रत्यर्पण के खिलाफ अपील करने के लिए 14 दिन का समय है।

ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के भारत यात्रा से ठीक पहले ब्रिटिश गृह मंत्री ने नीरव मोदी के प्रत्यर्पण पर दस्तखत कर दिए है। हालांकि नीरव मोदी को ब्रिटिश हाई कोर्ट में अपील का अधिकार अभी बाकी है। विजय माल्या के प्रत्यर्पण पर ब्रिटिश होम सेक्रेटरी ने फरवरी 2019 में दस्तखत किए थे।

भारत सरकार के लिए एक बड़े पैमाने पर प्रतिशोध में, यूके होम ऑफिस ने भगोड़े हीरा व्यापारी नीरव मोदी के भारत में प्रत्यर्पण को मंजूरी दे दी है। नीरव मोदी पर आरोप है कि उसने पंजाब नेशनल बैंक को 13 हजार 570 करोड़ रुपये का चूना लगाया।

वंड्सवर्थ जेल में बंद है नीरव मोदी

19 मार्च, 2019 को गिरफ्तारी के बाद से वह बार-बार जमानत से वंचित होने के बाद वंड्सवर्थ जेल में बंद है। हालांकि, उसके पास अभी भी ब्रिटेन में हाई कोर्ट के सामने वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट के आदेश के खिलाफ अपील करने का विकल्प है।

भारत से फरार होने के बाद ही सरकार ने नीरव मोदी को प्रत्यर्पित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी थी। मामला कोर्ट में गया। इसके बाद इसी साल 25 फरवरी को ब्रिटेन की अदालत ने नीरव मोदी को भारत प्रत्यर्पित करने का फैसला सुनाया। अब वहां के गृह मंत्रालय ने नीरव मोदी को भारत प्रत्यर्पित करने के लिए हस्ताक्षर कर दिए हैं।

error: Content is protected !!