ब्रिटेन में मिले कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन को लेकर दुनिया भर में एक बार फिर से डर का माहौल पैदा हो गया है। वायरस के नए प्रकार को देखते हुए भारत समेत दुनिया के 50 से अधिक देशों ने ब्रिटेन की यात्रा पर तत्काल प्रतिबंध लगा दिया है। हालांकि, भारत सरकरा द्वारा उठाए गए इस कदम से पहले ही सैकड़ों की संख्या में ब्रिटेन से आए नागरिक देश के अलग-अलग राज्यों में पहुंच चुके हैं। इतना ही नहीं इसमें कई यात्री ऐसे भी हैं जो कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इन सभी लोगों के नमूनों को जांच के लिए आगे भेज दिया गया है। जानकारी के मुताबिक नया स्ट्रेन पहले वाले वायरस के मुकाबले 70 फीसद अधिक तेजी से फैसला है। वहीं, सरकार ने आश्वस्त किया है कि ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए स्वरूप से घबराने की जरूरत नहीं है।

ब्रिटेन से भारत आने वाली सभी उड़ानों पर प्रतिबंध लगाने के बाद दिल्ली एयपोर्ट पर अबतक 984 यात्रियों की जांच की जा चुकी है। इनमें से कुल 11 यात्री कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इसमें मंगलवार की रात दो उड़ानों के जरिए दिल्ली के आइजीआइ एयरपोर्ट पर पहुंचे 514 यात्री भी शामिल हैं, जिनकी कोरोना जांच की गई है। इनमें छह यात्रियों की रिपोर्ट पाजिटिव आई है। पाजिटिव मिले यात्रियों को इलाज के लिए अस्पताल भेज दिया गया है। इसके अलावा जांच में नेगेटिव आने वाले 50 ऐसे यात्रियों को सरकारी क्वारंटाइन में रखा गया है जो संक्रमित मिले यात्रियों के आस-पास बैठे थे।

अमृतसर आए आठ कोरोना पाजिटिव

लंदन से अमृतसर लौटे 242 यात्रियों में से आठ कोरोना पाजिटिव पाए गए हैं। इन सभी लोगों का जिनोम टेस्ट किया जाएगा। इस टेस्ट के जरिये यह पता लगाया जाएगा कि कहीं ये लोग कोरोना की नई स्ट्रेन का शिकार तो नहीं हैं। इन आठ पाजिटिव मरीजों को अमृतसर के निजी अस्पताल में दाखिल करवाया गया है। इनके जांच नमूनों को पुणे स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट आफ वायरोलाजी भेजा जाएगा। इसके अलावा अन्य यात्रियों को सरकारी क्वारंटाइन सेंटर में भेजने की योजना भी बनाई जा रही है। स्वास्थ्य विभाग ने पंजाब भर में टीमें बनाकर कांटेक्ट ट्रेसिंग की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

ब्रिटेन से इंदौर आए 163 लोग

मध्य प्रदेश में अभी तक 405 लोगों के ब्रिटेन से आने की सूचना मिली है। इसमें से 25 नवंबर के बाद ब्रिटेन से 163 लोग इंदौर आए हैं। अब इन लोगों की आरटीपीसीआर जांच के लिए दो सैंपलिंग टीमों का गठन किया गया है। फिलहाल सभी लोगों को होम क्वारंटाइन किया गया है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार इनमें से जो लोग पॉजिटिव आएंगे, उनका कोविड गाइडलाइन के तहत स्वास्थ्य परीक्षण कर इलाज किया जाएगा। निगेटिव आने पर भी 10 दिन तक होम क्वारंटाइन रहना होगा। स्वास्थ्य विभाग ने इन लोगों को दिशानिर्देश देने के लिए एक वाट्सएप ग्रुप ‘यूके पैसेंजर्स’ बनाया है। इसमें बताया जा रहा है कि उनकी सैंपलिंग कब होनी है। साथ ही शासन की ओर से मिलने वाले सारे निर्देश भी दिए जाएंगे।

बता दें कि नए स्ट्रेन को देखते हुए ऑस्ट्रिया, फ्रांस, जर्मनी, इटली, तुर्की, कनाडा, नीदरलैंड, बेल्जियम, ऑस्ट्रिया और इस्राइल भी ब्रिटेन आने जाने वाली उड़ानों पर पहले ही प्रतिबंध लगा चुका है। ब्रिटिश सरकार ने भी इस बारे में चेतावनी जारी की है जिसके अनुसार वायरस का ये नया स्ट्रेन बेहद खतरनाक है और नियंत्रण से बाहर है। ये मौजूदा कोरोना वायर से 70 प्रतिशत अधिक तेजी से फैलता है। लंदन और दक्षिण इंग्लैंड में इसके तेजी से बढ़ रहे मामलों को देखते हुए लॉकडाउन लगा दिया गया है।

By

error: Content is protected !!