हिमाचल के भाखड़ा विस्थापित आज भी अपने अधिकारों से वंचित है। उनको कोई भी सुविधा देना तो दूर कोई उनकी समस्या सुनने को भी तैयार नही है। इसी संबंध में आज बिलासपुर के चंपा पार्क से सामने सब्जी की दुकान करने वाले भगत राम ने गुहार लगाई है कि उसकी समस्याओं का तुरंत समाधान किया जाए।

भगत राम ने बताया कि वह यहां छोटा मोटा व्यापार करते है और भाखड़ा विस्थापित है। उन्होंने बताया कि हाई कोर्ट के फैसले के बाबजूद उनको आज तक जमीन नही मिली। उन्होंने बताया कि उन्होंने 2012 में जमीन के लिए हाई कोर्ट में केस लगाया था और 2019 में हाई कोर्ट ने आदेश दिए थे लेकिन फिर भी उनको आज तो जमीन नही मिली। उन्होंने बताया कि जमीन का बाकायदा तकतिमा तक कट चुका है। लेकिन फिर भी कोई उनकी समस्या का समाधान नही कर रहा। हर सरकारी अधिकारी उनको टालता रहता है।

उन्होंने उपायुक्त बिलासपुर से निवेदन किया है कि मेरी जमींन का 2012 का केस था और 2018 जमींन का केस़ हाईकोर्ट में लगाया। 2019 में जमींन का फैसला मेरे हक़ में हुआ। तब से मैं मांग करता आ रहा हुं कि मेरी जमींन का फैसला मेरे हक़ में हुआ तो वह जमीन मुझे दे दो। ताकि मैं अपना व अपने परिवार का गुजारा ठीक तरह से चला सकूं। भाखड़ा विस्थापित होने पर जिन्दगी की गुजारा बड़ी मुश्किलों से चला रहा हूँ।

error: Content is protected !!