हीरो इलेक्ट्रिक जुलाई 2022 में भारतीय इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर बाजार में पहुंची टॉप पर

0
47

RIGHT NEWS INDIA: हीरो इलेक्ट्रिक ने पिछले कुछ महीनों में गिरावट दर्ज करने के बाद जुलाई 2022 में भारतीय इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर बाजार में एक बार फिर टॉप पर पहुंच गई है. ईवी कंपनी जून में तीसरे स्थान पर आ गई थी, लेकिन जुलाई में उसने जून में बेचे गए 6,504 इलेक्ट्रिक स्कूटरों की तुलना में 8,786 इलेक्ट्रिक स्कूटर बेचे.

ऑटोमेकर की साल-दर-साल बिक्री में पिछले महीने 108 प्रतिशत की वृद्धि हुई, क्योंकि उसने 2021 के इसी महीने में 4,223 इकाइयां बेची.

ओकिनावा ऑटोटेक हाल के कुछ महीनों में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले ईवी कंपनियों में से एक बन गई है. कंपनी ने जुलाई में महीने-दर-महीने बिक्री में 17 प्रतिशत की वृद्धि हासिल की है. ओकिनावा पिछले महीने दूसरे स्थान पर खिसक गई. साल-दर-साल के लिहाज से ओकिनावा ने पिछले साल जुलाई में 2,580 यूनिट्स की बिक्री की, जिसका मतलब है कि कंपनी ने 214 फीसदी की वृद्धि दर्ज की है.

इन कंपनियों की बिक्री में आई गिरावट

दूसरी ओर ओला इलेक्ट्रिक, एथर एनर्जी और रिवॉल्ट की महीने-दर-महीने बिक्री में गिरावट दर्ज की गई है. ओला इलेक्ट्रिक ने जून 2022 में बेची गई 5,886 इकाइयों की तुलना में पिछले महीने बिक्री में 3,852 इकाइयों के साथ 35 प्रतिशत की तेज गिरावट दर्ज की है. RV400 इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल बेचने वाली Revolt की बिक्री में भी पिछले महीने गिरावट दर्ज की गई है. पिछले महीने कंपनी ने 2,316 यूनिट्स की बिक्री की, जो इस साल जून में बेची गई 2,424 यूनिट्स की तुलना में बिक्री में चार फीसदी कम है.

एथर एनर्जी की बिक्री भी घटी

इसी तरह एथर एनर्जी की बिक्री में भी पिछले महीने 67 फीसदी की तेज गिरावट देखी गई है. कंपनी ने इस साल जुलाई में 1,279 यूनिट्स की बिक्री की है, जबकि इस साल जून में 3,829 यूनिट्स की बिक्री हुई थी. एथर की साल-दर-साल बिक्री में भी 29 फीसदी की भारी गिरावट आई है. एथर ने एक साल पहले इसी महीने में 1,799 यूनिट्स रिकॉर्ड की थी.

क्या इस वजह से घट रही बिक्री?

पिछले कुछ महीनों में कई कंपनियों के इलेक्ट्रिक स्कूटरों में आग लगने की घटनाएं सामने आई हैं. इन घटनाओं में कई लोग घायल हुए हैं, वहीं एक दो लोगों की मरने की खबर थी. इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर कंपनियों की बिक्री घटने की वजह हो सकती है. हालांकि, कंपनियों ने इन घटनाओं की जांच के लिए कई यूनिट इलेक्ट्रिक स्कूटरों को रिकॉल भी किया था. सरकार ने भी इन मामले की जांच की लिए एक टीम गठित की थी, जिसकी रिपोर्ट सरकार को सौंप दी गई है.

समाचार पर आपकी राय: