राज्य कमेटी के विरोध के बाबजूद प्रदेश प्रभारी रत्नेश गुप्ता ने नियुक्त किया नया अध्यक्ष; आम आदमी पार्टी

Read Time:5 Minute, 11 Second

हिमाचल में आम आदमी पार्टी की लड़ाई किस से है यह अभी तक तय नही हो पा रहा है। आम आदमी पार्टी के पदाधिकारी भले ही बड़ी बड़ी बातें करते हों लेकिन धरातल पर स्थिति एक दम विपरीत है। आम आदमी पार्टी का हर कार्यकर्ता आज प्रदेश प्रभारी रत्नेश गुप्ता के खिलाफ खड़ा हो गया है। प्रदेश प्रभारी रत्नेश गुप्ता ने पहले प्रदेश में कदम रखते ही सबसे पहले संगठन विस्तार कमेटी और अनुशासन कमेटी का निर्माण किया था जिनको कुछ दिन पहले प्रदेश के संयोजक निक्का सिंह पटियाल ने अपने दिल्ली दौरे से लौटते ही लिखित आदेश भेज कर रद्द कर दिया गया था और सभी लोगों को आम आदमी पार्टी के सभी पदों से मुक्त कर दिया था। लेकिन अभी एक नया मोड़ आम आदमी पार्टी की राजनीति में आ गया है।

अनूप केसरी का अध्यक्ष नियुक्ति पत्र

पिछले दिनों प्रदेश संयोजक निक्का सिंह पटियाल ने नव नियुक्त प्रदेश प्रभारी के बारे 100-200 करोड़ की गेम की बात की थी जिसका ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल भी हुआ था। लेकिन आज तक यह बात साफ नही हुई कि रत्नेश गुप्ता के संदर्भ में किस विषय पर यह बात कही गई है। प्रदेश संयोजक ने नव नियुक्त प्रभारी रत्नेश गुप्ता के हिमाचल दौरे के बारे भी केंद्रीय नेतृत्व से शिकायत की थी। उसके संबंध में भी एक पत्र सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था।

उधर, आज रत्नेश गुप्ता ने एक बार फिर बिना प्रदेश संयोजक को हटाए, नए अध्यक्ष की नियुक्ति कर दी है। जानकारी के मुताबिक अनूप केसरी को हिमाचल आम आदमी पार्टी का अध्यक्ष चुना गया है। जिसके बारे एक नियुक्ति पत्र भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। आम लोगों ने पोस्टर बना कर बधाई संदेश भी पोस्ट करने शुरू कर दिए है।

अगर हम आम आदमी पार्टी के संविधान की बात करें तो उसमें साफ साफ प्रदेश संयोजक का कार्यकाल, उसको हटाने और राज्य कमेटी को ही एक तिहाई बहुमत से नया प्रदेशाध्यक्ष चुनने का प्रावधान है। इसीलिए सभी कार्यकर्ता आम आदमी पार्टी के नव नियुक्त प्रदेश प्रभारी रत्नेश गुप्ता की कार्यशैली पर सवाल उठा रहे है।

अनूप केसरी और निक्का सिंह पटियाल का विवादों से पुराना नाता है। जब आप प्रदेश प्रभारी रत्नेश गुप्ता हिमाचल आये थे और उन्होंने अनुशासन कमेटी और संगठन विस्तार कमेटी का गठन किया था तो उसमें सबसे खास बात यह थी कि अनूप केसरी दोनों ही कमेटियों में लिए गए थे। अनूप केसरी ने कई बार प्रदेश संयोजक के द्वारा जारी बैठक संबंधी आदेशों को रद्द करवाने की कोशिश की थी और आम आदमी पार्टी के लोगों को पार्टी से निकालने के नाम पर धमकाया भी था, उसके बारे भी सोशल मीडिया पर एक पत्र बहुत ज्यादा वायरल हुआ था।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक रत्नेश गुप्ता के खिलाफ हिमाचल के आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं सहित कई बड़े पदाधिकारियों ने केंद्रीय नेतृत्व को मेल, पत्र और रजिस्टर्ड पोस्ट द्वारा शिकायत की है, लेकिन आज तक कहीं से कोई जबाब नही आया। केंद्रीय नेतृत्व के इस रवैये से भी हिमाचल प्रदेश के लगभग सभी कार्यकर्ता और पदाधिकारी असंतुष्ट चल रहे है।

उधर पीएसी कमेटी के अध्यक्ष देव राज दुग्गल ने सोशल मीडिया में एक बयान जारी कर रत्नेश गुप्ता द्वारा नियुक्त नए अध्यक्ष को मान्यता देने से मना कर दिया है और अनूप केसरी को आम आदमी पार्टी के सभी पदों से मुक्त कर दिया है। अब देखने वाली बात यह है कि केंद्रीय नेतृत्व इस बारे क्या फैसला करता है।

2 thoughts on “राज्य कमेटी के विरोध के बाबजूद प्रदेश प्रभारी रत्नेश गुप्ता ने नियुक्त किया नया अध्यक्ष; आम आदमी पार्टी

  1. अगर प्रदेश संयोजक दिल्ली से ही नियुक्त होंगे तो बाकी पदाधिकारियों की नियुक्तियां भी दिल्ली से कर देनी चाहिए । झगड़ा ही खत्म ।
    ” अपै दो टोटणू ते मियाँ बागे विच”

Comments are closed.

error: Content is protected !!
Hi !
You can Send your news to us by WhatsApp
Send News!