टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली को हाल ही में हार्ट अटैक आया था। सौरव गांगुली की हालत में अब सुधार है और जल्द ही उन्हें छुट्टी मिल सकती है। इसी बीच उनके हार्टअटैक को लेकर सियासी गलियारों में हंगामा मचा हुआ है।

दरअसल कुछ राजनीतिक दलों का कहना है कि सौरव गांगुली पर बीते कुछ समय से राजनीति में आने का दबाब बनाया जा रहा था। शायद इस वजह से आज उनकी ये हालत हुई है।

अब एक खबर सामने आई है कि गौतम अडानी की कंपनी ‘अडानी विल्मर’ ने अपने प्रोडक्ट फॉर्चून राइस ब्रान कुकिंग ऑयल के सभी विज्ञापनों को रोक दिया है।

दरअसल इन विज्ञापनों में सौरव गांगुली दिखाई देते थे। बीते साल ही उन्हें फॉर्च्यून राइस ब्रान ऑयल का ब्रांड एम्बेसडर बनाया था।

अडानी विल्मर के इस प्रोडक्ट में दावा किया जाता है कि ये लोगों के हार्ट की देखभाल को बढ़ावा देता है। इससे आपका हार्ट स्वस्थ रहता है। कोरोना महामारी के चलते लगे लॉक डाउन में इस आयल को काफी प्रमोट किया जा रहा था।

अब सौरव गांगुली को हार्ट अटैक आने के बाद उनकी एंजियोप्लास्टी हुई है। इस खबर के सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने ब्रांड एंडोर्समेंट पर सवाल खड़े किए। लोगों ने अडानी विल्मर के इस आयल का जमकर मजाक भी बनाया।

इस मामले में कंपनी के जुड़े एक सूत्र ने बताया है कि सोशल मीडिया पर कंपनी की किरकिरी को देखते हुए सौरव गांगुली वाले विज्ञापन को सभी प्लेटफॉर्म्स से हटा दिया गया है।

इस मामले में पत्रकार आदेश रावल ने भी अडानी ग्रुप पर चुटकी ली है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि “सौरव गांगुली को दिल की बीमारी के कारण Fortune oil के Brand ambassador से हटा दिया है। Fortune के बारे में कहा जाता है कि यह आपके ह्रदय को स्वस्थ रखता है।”

error: Content is protected !!