काबुल: अफगानिस्तान में अमेरिकी सैनिकों की वापसी की चर्चाओं के बीच आतंकियों का कहर जारी है। तीन महिला डॉक्टरों की हत्या के बाद गुरुवार को अफगानिस्तान में 7 लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी गई। वहीं रिक्शे में प्लांट किए गए बम से गुरुवार को एक महिला डॉक्टर की मौत हो गई। प्रांतीय अधिकारियों ने यह जानकारी दी।

नंगरहार के प्रांतीय पुलिस प्रमुख जनरल जुमा गुल हेमट ने कहा कि गोलीबारी के शिकार लोगों में सोर्ख रॉड जिले के प्लास्टर कारखाने के मजदूर थे। वे सभी मजदूर अफगानिस्तान के अल्पसंख्यक शिया हजारा समुदाय से थे। कुछ लोग काबुल, मध्य बामियान और उत्तरी बल्ख प्रांतों में कारखाने में काम करने के लिए आए थे। इस हत्याकांड में चार संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया है।

वहीं इस्लामिक स्टेट समूह ने एक बयान जारी कर बम विस्फोट की जिम्मेदारी ली है। आतंकवादी संगठन ने कहा कि उसके लड़ाकों ने महिला के वाहन पर रखे एक चिपचिपे बम में विस्फोट किया। बयान में दावा किया गया कि महिला ने पूर्वी नंगरहार प्रांत की राजधानी जलालाबाद में अफगान खुफिया सेवा के लिए काम किया था।

You have missed these news

error: Content is protected !!