Right News

We Know, You Deserve the Truth…

टीका लगने के बाद 16 दिन के भीतर मौत, एक डोज लेने के बाद 67 ने तोड़ा दम

हिमाचल में कोरोना वैक्सीन लगाने के बाद 16 दिनों के भीतर 69 लोगों की मृत्यु हुई है। हालांकि इनमें एक डोज लेने के बाद 67 लोगों ने दम तोड़ा है। इसके विपरीत दोनों डोज लेने के बाद दो संक्रमितों की मृत्यु हुई है। स्वास्थ्य विभाग का यह आंकड़ा 14 से 30 अप्रैल के बीच हुई संक्रमितों की मौतों का है। यह जानकारी सार्वजनिक करते हुए हिमाचल सरकार ने सभी लोगों से कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लेने की अपील की है। विशेषज्ञों का मानना है कि इस वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के 14 दिन बाद शरीर में वायरस से लड़ने के लिए एंटी बॉडी डिवेलप होते हैं।

स्वास्थ्य विभाग के विश्लेषण के अनुसार इस वर्ष राज्य में 14 अप्रैल से 30 अप्रैल तक कोविड महामारी से 362 लोगों की मृत्यु हुई है। इनमें से 67 लोग ऐसे हैं, जिन्होंने कोरोना वैक्सीन की पहली खुराक ली थी। केवल दो ऐसे लोग है, जिनकी मृत्यु वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बाद हुई है। मौत के इन दोनों मामलों में एक व्यक्ति की मृत्यु वैक्सीन लगवाने के चार दिन बाद, जबकि दूसरे व्यक्ति की मृत्यु वैक्सीन लेने के 16 दिन बाद हुई है। इससे पता चलता है कि दोनों व्यक्ति टीकाकरण के बाद प्रभावी इम्यूनिटी विकसित होने से पहले ही कोरोना महामारी से संक्रमित हो गए। इससे यह भी पता चलता है कि टीकाकारण सीधे तौर पर कोविड से होने वाली मृत्यु दर को कम करने में मदद करता है।

प्रवक्ता ने कहा कि पात्र लोगों का टीकाकरण की कवरेज को बढ़ाने के लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जिन लोगों को चार से छह सप्ताह पहले वैक्सीन की पहली खुराक दी जा चुकी है, उन्हें वैक्सीन की दूसरी खुराक लेने के लिए आगे आना चाहिए, ताकि उनमें प्रभावी इम्यूनिटी विकसित हो सके। प्राथमिकता वाले समूहों जैसे 45 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोग, स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और अग्रिम पंक्ति कार्यकर्ताओं के लिए वैक्सीन पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि राज्य को भारत सरकार के माध्यम से आज कोविशील्ड वैक्सीन की 50 हजार वैक्सीन और प्राप्त हो गई है। उन्होंने कहा कि 18-45 वर्ष के आयु वर्ग के टीकाकरण को शुरू करने के लिए राज्य सरकार ने भारत सरकार के सीरम संस्थान को कोविशिल्ड वैक्सीन की 107620 खुराकों की आपूर्ति के लिए 3.39 करोड़ रुपए का भुगतान कर दिया है, जिसकी आपूर्ति शीघ्र आपेक्षित है। वैक्सीन प्राप्त होते ही टीकाकरण अभियान शुरू कर दिया जाएगा।

टीकाकरण केंद्रों की लिस्ट जल्द की जाएगी प्रकाशित

18 से 45 वर्ष के आयु वर्ग में टीकाकरण करवाने की भीड़भाड़ की संभावना को मद्देनजर रखते हुए सभी जिलों आम जनता की सुविधा के लिए शहरी कलस्टर में अधिक कोविड टीकाकरण केंद्र संचालित करने के निर्देश दिए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग शिमला, मंडी और धर्मशाला में प्राथमिकता वाले समूहों (यानी 45 वर्ष से अधिक आयु, एचसीडब्ल्यू और एफएलडब्ल्यू) के टीकाकरण स्थलों की सूची प्रकाशित करेगा। यह सूची वेबसाइट http://www.nrhmhp.gov.in पर भी देखी जा सकती है।

हिमाचल का औसत बेहतर

राज्य में 91.9 प्रतिशत स्वास्थ्य देखभाल कार्यकर्ताओं (एचसीडब्ल्यू) को कोरोना वैक्सीन की पहली खुराक दी है, जबकि राष्ट्रीय औसत 88.7 प्रतिशत है। प्रदेश में वैक्सीन की दूसरी खुराक 90.3 प्रतिशत स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को दी है, जिसका राष्ट्रीय औसत 79.1 प्रतिशत है। राज्य सरकार के प्रवक्ता ने कहा कि राज्य में 45 वर्ष से अधिक जनसंख्या वर्ग में वैक्सीन की पहली खुराक 78 प्रतिशत लोगों को दी है, जबकि राष्ट्रीय औसत 30 प्रतिशत है।

error: Content is protected !!