Right News

We Know, You Deserve the Truth…

टिकरी बॉर्डर पर बंगाल की आंदोलनकारी 25 वर्षीय युवती की सामुहिक बलात्कार के बाद मौत

कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर टीकरी बॉर्डर पर किसानों के आंदोलन में 30 अप्रैल को पश्चिम बंगाल की आंदोलनकारी 25 वर्षीय युवती की मौत हो गई थी। अब मृतका के साथ सामूहिक दुष्कर्म की बात सामने आई है। बहादुरगढ़ पुलिस ने दो महिलाओं और चार युवकों के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म का केस दर्ज किया है।

दुष्कर्म और वारदात की साजिश में शामिल होने के आरोप में युवती के पिता की शिकायत पर महिला पुलिस थाना बहादुरगढ़ में एफआईआर दर्ज की गई है। आरोपी किसान सोशल आर्मी से जुड़े हैं। उनकी पहचान अनिल मलिक, अनूप सिंह, अंकुश सांगवान, जगदीश बराड़, कविता आर्य और योगिता सुहाग के रूप में हुई है।

आरोपियों पर धारा 376, 354, 365 और 342 के तहत केस दर्ज किया गया है।

पांच मई को मां ने जताया था शक किसान आंदोलन में शामिल युवती की 30 अप्रैल को मौत हो गई थी। इस मामले की टीकरी बॉर्डर पर पहले दिन से ही चर्चा चल रही थी। हर कोई संदेह व्यक्त कर रहा था कि युवती के साथ यौन अपराध हुआ है। युवती की मौत शहर के एक निजी अस्पताल में हुई थी। उस समय युवती की मौत का कारण संक्रमण बताया गया था। युवती के शव को एक खुले वाहन में रख किसानों ने शवयात्रा भी निकाली और पिता ने स्थानीय रामबाग में उसकी अंत्येष्टि की थी।

युवती का कोविड प्रोटोकोल से अंतिम संस्कार किया था। अगले दिन टीकरी बॉर्डर पर संयुक्त किसान मोर्चा की सभा के मंच पर अस्थि कलश रख किसानों ने मृतका को श्रद्धांजलि अर्पित की। इस मौके पर उसके पिता भी मौजूद थे।

मृतका के परिजनों को मामले में शक था। इसलिए 5 मई को युवती की मां टीकरी बॉर्डर पहुंची। उन्होंने कई किसानों से मुलाकात कर अपनी बेटी की मौत के मामले की जांच करवाने की मांग की। इसके रोष स्वरूप कुछ आंदोलनकारियों ने टीकरी बॉर्डर पर ईंटों व अन्य सामान से बनी एक झोपड़ी को तहस-नहस कर दिया। मामले में कोई भी किसान नेता आधिकारिक रूप से कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हुआ। लेकिन कुछ किसान नेताओं ने यह जरूर कहा कि जो भी हुआ बहुत बुरा हुआ।

11 अप्रैल को टीकरी बॉर्डर आई थी युवती

युवती तीन कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे आंदोलन में भाग लेने के लिए गत 11 अप्रैल को टीकरी बॉर्डर आई थी। वह अपने कामरेड पिता के साथ जनवादी आंदोलनों में हमेशा सक्रिय रहती थी। कृषि कानूनों को किसान विरोधी मानती थी, इसलिए किसान आंदोलन से जुड़ी थी।

पश्चिम बंगाल की निवासी आंदोलनकारी युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म होने का मामला दर्ज किया गया है। दो महिलाओं व चार युवकों को इसमें नामजद किया गया है। वारदात स्थल बहादुरगढ़ शहरी क्षेत्र बताया गया है। मामले की जांच की जा रही है। आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। -विजय कुमार, एसएचओ, शहर थाना, बहादुरगढ़।

error: Content is protected !!