हमीरपुर: नादौन की 21 वर्षीय नैंसी सीख रही (बस) ड्राइविंग, बस चलाने का जुनून।

हिमाचल प्रदेश की पहली महिला बस चालक होने का तमगा लगा चुकी सीमा ठाकुर के बाद अब युवतियों की रुचि स्कूटर, कार से हटकर बस का स्टियरिंग घुमाने की और बढऩे लगी है। या यूं कहें कि पहाड़ी प्रदेश की महिलाएं या फिर युवतियां यह संदेश देने का भी प्रयास कर रही हैं कि वे किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं। वे हाथ अगर हाथ में पैन के अलावा यदि हथियार भी थाम सकती हैं, तो बड़ी बसों की चालक सीट पर स्टियरिंग भी घुमा सकती हैं। कुछ ऐसा ही नजारा आजकल देखने को मिल रहा है हमीरपुर में। हमीरपुर जिला की पिछड़ी पंचायत कश्मीर भिड़े की 21 वर्षीय नैंसी आजकल बस चालक की ट्रेनिंग ले रही हैं।

नैंसी राजकीय महाविद्यालय नादौन से बीकॉम की पढ़ाई वर्ष 2020 में पूरी कर चुकी हैं और आजकल एचआरटीसी के हमीरपुर डिपो के ड्राइविंग स्कूल में बस का प्रशिक्षण प्राप्त कर रही हैं। कुल 17 प्रशिक्षुओं में नैंसी अकेली लड़की है, जो बस चलाना सीख रही है।

Leave a Reply