आईजीएमसी में खाना वितरण का ठेका ब्लैक लिस्टेड कंपनी को दिया, ठेके की कीमत 2 करोड़ से सीधे 5 करोड़

आईजीएमसी अस्पताल में खाना वितरण करने का टेंडर एक ब्लैक लिस्टेड कंपनी को देने का मामला सामने आया है। टेंडर की कॉस्ट भी 2 करोड़ से 5 करोड़ बढ़ा दी है। साफ तौर पर व्यक्ति को फायदा पहुंचाया गया है क्योंकि व्यक्ति मुख्यमंत्री का करीबी है। जनता के पैसे की बंदर बांट की गई है। यह आरोप युवा कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष यदुपति ठाकुर ने शिमला में पत्रकार वार्ता के दौरान आईजीएमसी प्रशासन पर लगाएं हैं। 

ठाकुर ने कहा कि आईजीएमसी प्रशासन ने गुणवत्ता के नाम पर एक ऐसी कंपनी को टेंडर दिया है जो पहले इंडियन एडवांस स्टडी में ब्लैक लिस्ट हो चुकी है। केवल मुख्यमंत्री के करीबी होने पर चलते गलत तरीके से टेंडर आबंटित किया गया है। आईजीएमसी प्रशासन ने अगर सोमवार तक मामले की जांच या प्रकिया को लेकर स्पष्टीकरण नहीं दिया तो युवा कांग्रेस प्रदेश भर में प्रदर्शन करेगी। साथ आईजीएमसी का घेराव भी किया जाएगा और मुख्यमंत्री का पुतला भी फूंका जाएगा। मामले को लेकर युवा कांग्रेस हाई कोर्ट का दरवाजा भी खटखटायेगी अगर जांच नहीं होती है। जनता के पैसे की बर्बादी नहीं होने दी जाएगी।