टीसीपी एक्ट हटाकर ग्रामीणों को राहत दे सरकार – सामाजिक जागरण मंच

सामाजिक जागरण मंच ने सरकार से मांग की है कि ग्रामीण पंचायतों से टीसीपी एक्ट को हटाया जाए। यह मांग सामाजिक जागरण मंच के कार्यालय स्थित धनोटू में आयोजित कार्यसमिति की बैठक के दौरान की गई।

बैठक की अध्यक्षता करते हुए मंच के अध्यक्ष दर्शन लाल ने कहा ग्रामीण क्षेत्रों में आने वाली सभी पंचायतों की जनता लंबे समय से टीसीपी एक्ट को हटाने की मांग कर रही है। कहा कि टीसीपी एक्ट के संबंध में शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों को एक ही तराजू पर नहीं तोला जा सकता है। ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों के रहन सहन और सभी निर्माण कार्य गाँव के परिवेश को देखकर किए जाते हैं। जिसमें ग्रामीणों की सभी क्रियाएं खेती-बाड़ी के साथ पशु पालन पर केंद्रित रहती है। हालांकि टीसीपी एक्ट लागू होने के बाद इन क्षेत्रों में किसी तरह की सुविधा नहीं दी गई है। जबकि एक तरफ ग्रामीण क्षेत्रों की पंचायतों में निर्माण संबंधी कार्यों में लोग असहाय महसूस कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर नव निर्मित मकानों में बिजली के मीटर और अन्य तरह की आधारभूत जरूरतों के लिए जूझना पड़ रहा है। इसके साथ ग्रामीण क्षेत्रों में बहुत से लोग जमीनों के पारिवारिक खाते इकट्ठा होने की स्थिति में टीसीपी एक्ट के अंतर्गत आने वाली शर्तों को पूरा नहीं कर पा रहे हैं। उन्होंने सरकार से नाचन विधानसभा क्षेत्र के चौक, जुगाहन, भौर,कनैड, महादेव, घांघल पंचायतों को टीसीपी एक्ट से बाहर करके लोगों को राहत प्रदान करने की मांग की। ताकि संबंधित पंचायतों के ग्रामीण निर्माण के साथ अपनी सभी आर्थिक क्रियाओं को सुचारू रूप से आगे बढ़ा सके। बैठक में मंच के महासचिव नरेश कुमार, उपाध्यक्ष प्रभु दयाल, निरंजन सिंह, कृष्ण लाल, राजेंद्र कुमार, जय राम, समेत अन्य लोग मौजूद थे।