नवनियुक्त प्रभारी के कारण हिमाचल में “आप” का विघटन; सभी कमेटियां की रदद्

दिल्ली से लौटते ही प्रदेश संयोजक निक्का सिंह पटियाल ने सभी कमेटियों को रद्द करके सभी पुराने मामलों को एक झटके में विराम दे दिया है। फिर चाहे मामला गाली गलौच और कार्यकर्ताओं के साथ दुर्व्यवहार का रहा हो या फिर प्रदेश प्रभारी द्वारा बन्द कमरों में बनाए नए संगठनों का, जो किसी को कभी भी पार्टी से निकाल देते थे या फिर प्रदेश संयोजक की बैठक पर संदेश भेज कर रोक लगा देते थे। प्रदेश संयोजक ने आज सभी कमेटियों को रद्द कर उनके काम करने या किसी भी तरह का फैसला लेने पर रोक लगा दी है। प्रदेश के सभी कार्यकर्ताओं ने उस कमेटी को “निष्कासन कमेटी” नाम तक दे दिया गया था। प्रदेश संयोजक निक्का सिंह पटियाल ने उस कमेटी को समेत सभी कमेटियों को फिलहाल रदद् कर दिया है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आम आदमी पार्टी में यह घटनाक्रम उस समय से शुरू हुआ है, जब हिमाचल को केंद्रीय नेतृत्व की ओर से नया प्रदेश प्रभारी दिया गया था। प्रदेश प्रभारी रत्नेश गुप्ता ने प्रभारी पद मिलते ही प्रदेश में मनमानियों का दौर शुरू कर दिया था। प्रदेश प्रभारी रत्नेश गुप्ता ने बंद कमरों में एक अनुशासन कमेटी और दूसरी संगठन विस्तार कमेटी का गठन किया। आपको जानकर हैरानी होगी कि इन नए संगठनों के निर्माण में प्रदेश संयोजक की सहमति लेना भी प्रदेश प्रभारी ने जरूरी नही समझा। प्रदेश प्रभारी ने अनुशासन कमेटी में अनूप केसरी, पूर्ण चंद और रमा गुलेरिया को शामिल किया गया। इसके साथ ही एक संगठन विस्तार कमेटी भी बनाई गई। जिसमें अनूप केसरी, सुदेश कुमार, अजय राय, शेषपाल सकलानी, कैप्टन गिल आदि को लिया गया। जबकि उनके पास पहले से ही एक या ज्यादा पद थे। आम आदमी पार्टी के संविधान में एक आदमी एक पद का प्रावधान होते हुए भी प्रदेश प्रभारी द्वारा पदों की बंदर बांट की गई।

केजरीवाल का खौफ दिखा कर पदाधिकारियों को डराया और धमकाया गया। इतना ही नही उन कमेटियों को प्रदेश संयोजक के ऊपर बिठा दिया गया था। प्रदेश में कई बार संयोजक द्वारा बैठकों का आयोजन किया गया, लेकिन अनुशासन कमेटी और संगठन विस्तार कमेटी ने प्रदेश संयोजक की बैठकों का बहिष्कार कर पार्टी के कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों को बैठकों में ना जाने का आग्रह किया। जब पार्टी कार्यकर्ताओं ने बैठकों में जाने पर सहमति दिखाई तो व्हाट्सएप्प के माध्यम से पार्टी से निष्कासित करने का भी भय दिखाया गया।

नए प्रदेश प्रभारी का पार्टी में नए संगठनों का निर्माण हिमाचल प्रदेश में आम आदमी पार्टी के विघटन का मुख्य कारण बना। इन नवनिर्मित संगठन के पदाधिकारियों ने भी मनमाने निर्णय सभी पर थोपे, प्रदेश संयोजक से गाली गलौच किया और प्रदेश की महिला विंग की पदाधिकारियों से भी बतमीजियाँ की। इसी घटनाक्रम में एक महिला प्रदेश अध्यक्ष को शराब पीकर कॉल की गई और बेहूदगी की गई, जिसकी शिकायत महिला विंग की अध्यक्ष ने प्रदेश संयोजक से लिखित में की थी। आपको जानकर हैरानी होगी कि उस समय महिला विंग को ही रदद् करने के आदेश प्रदेश संयोजक द्वारा दिए गए और शाम होते होते वापिस लिए गए। आज तक पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए संगठन विस्तार कमेटी और अनुशासन कमेटी के खिलाफ कोई एक्शन नही लिया गया। केवल संगठनों को रद्द करके मामले को बंद किया जा रहा है।

इस दौरान प्रदेश संयोजक का केंद्रीय नेतृत्व को भेजा एक व्हाट्सएप पत्र वायरल हुआ जिसमें प्रदेश संयोजक ने नवनियुक्त प्रदेश प्रभारी पर गंभीर आरोप लगाए थे। प्रदेश संयोजक ने साफ साफ लिखा था कि नवनियुक्त पार्टी प्रभारी ने अपने प्रदेश दौरे के दौरान प्रदेश संयोजक को हर कार्यक्रम से बाहर रखा। ना तो कहीं मंच पर जगह दी और ना ही किसी तरह का कोई सम्मान दिया गया। जिसकी शिकायत इस व्हाट्सएप्प पत्र द्वारा प्रदेश संयोजक ने केंद्रीय नेतृत्व को की थी। जानकारी के मुताबिक इसी पत्र के बाद प्रदेश संयोजक को दिल्ली बुलाया गया था। अब प्रदेश संयोजक का एक और ऑडियो वायरल हो गया है जिसमें प्रदेश संयोजक निक्का सिंह पटियाल प्रभारी के साथ 100-200 करोड़ की डील के बारे बात कर रहे है। लेकिन यह डील क्या है और किसके साथ हो रही थी इस बारे कोई जानकारी अभी तक उपलब्ध नही हो पाई है। लेकिन यह अपने आप में एक गंभीर आरोप है।

इसी घटनाक्रम में युवा विंग के अध्यक्ष विशाल राणा को पार्टी से बाहर किया गया और उसका कारण मीडिया में अपने पदों का गलत इस्तेमाल करना बताया गया था। जबकि अपने इंटरव्यू में युवा विंग के अध्यक्ष ने पार्टी हित में ही बात रखी थी। इस मामले में जब विशाल राणा से बात की गई तो उनका कहना था कि मुझे खुशी है कि प्रदेश संयोजक ने केंद्रीय नेतृत्व के मार्गदर्शन में पार्टी हित में कठोर फैसला लिया है। जो कुछ पिछले समय में हुआ वह बेहद दुखद और संगठन को तोड़ने वाला था। पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व को समय रहते इन लोगों के खिलाफ एक्शन लेना चाहिए था। उन्होंने आगे कहा कि सभी आम लोगों, कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों से आग्रह है कि सभी लोग एक मंच पर आए और संगठित होकर प्रदेश हित में कार्य करें।

इस दौरान एक और वीडियो वाइरल हुआ है जिसमें साफ साफ लिखा गया है कि प्रदेश संयोजक निका सिंह पटियाल को आम आदमी पार्टी से छह साल के लिए बाहर कर दिया गया है और इस घटना को आम आदमी पार्टी से विशाल राणा को बाहर करने पर आम आदमी पार्टी का दूसरा सबसे बड़ा विकेट गिरना बताया गया है। जब इस बारे प्रदेश संयोजक से बात की गई तो उनका कहना था कि यह एक फर्जी वीडियो है जोकि मेरी छवि को धूमिल करने के लिए फैलाया जा रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि अभी आम आदमी पार्टी की नई कमेटियों का निर्माण युद्धस्तर पर किया जाएगा और एक महीने के अंदर अंदर हर विधानसभा क्षेत्र में नई कमेटियों का निर्माण कर दिया जाएगा।

आज आम आदमी पार्टी संयोजक सिरमौर के पौंटा साहिब में बैठक करेंगे और गुरु की नगरी से पार्टी की नई कमेटियों का निर्माण कार्य शुरू करंगे।

One comment

  • Vishal Rana

    Great, Right News India. 👍
    बहुत ही सटीक और ऑथेंटिक जानकारी लोगों को RIGHT NEWS FOUNDATION चैनल द्वारा दी जा रही है। सच के साथ लोगों को रूबरू करवनगे के लिए आपका शुक्रिया।
    विशाल राणा