हिमाचल में 3700 स्वास्थ्य कर्मियों को मिलेगा सबसे पाए कोरोना का टीका; सचिव अनिल खाची

आज प्रदेश की राजधानी शिमला में मुख्य सचिव अनिल खाची की अध्यक्षता में स्टेट स्टेयरिंग कमेटी की बैठक आयोजित की गई। इस बैठक में कोरोना वैक्सीन को लेकर कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए। प्रदेश में सबसे पहले कोरोना वैक्सीन 80 हजार स्वास्थ्य कर्मियों, हेल्थ वर्करज के अलावा फ्रंट में काम कर रहे पुलिस व सफाई कर्मियों को सबसे पहले दी जाएगी। हिमाचल में कोरोना वैक्सीन को रखने के लिए 386स्थान भी चिन्हित कर दिए गए है।

बैठक में बताया गया कि प्रदेश में 80 हजार ऐसे कर्मचारियों की सूची तैयार कर ली गई है और उनमें स्वास्थ्य कर्मियों में सरकारी और गैर सरकारी स्वास्थ्य क्षेत्र में सेवा दे रहे स्वास्थ्य कर्मी भी शामिल है। जानकारी के मुताबिक हिमाचल में सबसे पहले कोरोना वैक्सीन स्वास्थ्य कर्मियों को दी जाएगी। उसके बाद फ्रंट मवन काम कर रहे लोगों का नंबर आएगा और उसके बाद चरणबद्ध तरीके से अन्य लोगों को उपलब्ध करवाई जाएगी। स्वास्थ्य सचिव अमिताभ अवस्थी का कहना था कि प्रदेश के लोगों को कोरोना वैक्सीन उपलब्ध करवाने की तैयारियां पूरी की जा रही हैं। यह वैक्सीन भारत सरकार के दिशा-निर्देशानुसार चरणबद्ध तरीके से राज्य में लोगों को उपलब्ध करवाई जाएगी।

स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि भारत सरकार के दिशा निर्देशों के अनुसार राज्य सरकार सबसे पहले कोरोना वैक्सीन 80 हजार लोगों को देगी जिसमें स्वस्थ कर्मी और फ्रंट लाइम में काम कर रहे लोग शामिल होंगे। उसके बाद वैक्सीन बाकी राज्य के लोगों को उपलब्ध करवाई जाएगी। उन्होंने आगे बताया कि वैक्सीन को रखने की तैयारी भी पूरी कर ली गई है और प्रदेश में वैक्सीन आने पर अलग अलग 386 स्थानों पर वैक्सीन को रखा जाएगा।

स्वास्थ्य सचिव के अनुसार प्रदेश में 3700 कर्मचारियों को चिन्हित कर लिया गया है जिनको वैक्सीन सबसे पहले दी जाएगी और वही लोग आगे टिक्काकरण में आगे अपनी सेवाएं देंगे। आगे के टिक्काकरण के लिए उन लोगों के प्रशिक्षण की व्यवस्था की जा रही है।