किसानों पर पानी की बौछारें और रास्ता रोकने की कोशिश; किसानों ने बैरिकेट तोड़े

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में विरोध प्रदर्शन के लिए ट्रैक्टरों और पैदल चलकर आ रहे पंजाब के हजारों किसानों को हरियाणा पुलिस ने अंबाला के पास रोक दिया है। इससे भाजपा शासित हरियाणा की पुलिस और किसानों के बीच टकराव की स्थिति पैदा हो गई है। अंबाला के पास किसानों और पुलिस के बीच झड़प की खबर है। इस दौरान ईंट-पत्थर भी चले। किसानों को रोकने के लिए सड़कों पर और पुल पर बैरिकेड्स लगाए थे जिसे किसानों तोड़कर नदी में फेंक दिया। किसानों को आगे बढ़ता देख पुलिसकर्मियों ने आज सुबह उन पर ठंडे पानी की बौछार की है और आंसू गैस के गोले भी दागे हैं।
दिल्ली कूच में पंजाब और हरियाणा समेत कुल छह राज्यों के किसान शामिल हैं। उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान और केरल के किसान भी आज और कल (गुरुवार और शुक्रवार) दिल्ली पहुंचकर किसान कानूनों के खिलाफ विरोध मार्च करने वाले हैं. किसानों के 500 संगठन इस विरोध मार्च में शामिल हैं। इस बीच दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार ने कोरोना वायरस संकट को देखते हुए किसानों को दिल्ली में किसी भी तरह के जमावड़े और रैली करने की इजाजत नहीं दी है।
किसानों के आंदोलन को देखते हुए दिल्ली मेट्रो की सेवाएं बाधित हुई हैं। पड़ोसी राज्यों के शहरों तक मेट्रो सेवा दोपहर 2 बजे तक सस्पेंड कर दी गई है ताकि मेट्रो में भीड़न हो सके और किसान दिल्ली न पहुंच सकें। दिल्ली मेट्रो ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है कि पड़ोसी  राज्यों के शहरों से दिल्ली आने वाली मेट्रो को रोक दिया गया है।
कापड़ीवास बॉर्डर और पंचगाव चौक पर डीसीपी साउथ धीरज सेतिया को जिम्मेदारी दी गई है, जबकि केएमपी और गुरुग्राम- नूंह बॉर्डर पर डीसीपी मानेसर नीतिका गहलोत को सुपरवाइजर बनाया गया है। सिरहोल-दिल्ली बॉर्डर पर डीसीपी वेस्ट दीपक सहारन को नियुक्त किया गया है। पचगांव -मोहम्मदपुर अहीर रोड पर होटल वेस्टर्न कंट्री क्लब के निकट पड़ने वाले बॉर्डर पर भी डीसीपी मानेसर नितिका गहलोत को नियुक्त किया गया है।
सभी जगहों पर सरकार ने ड्यूटी मजिस्ट्रेट भी नियुक्त किए हैं और उन स्थानों की वीडियोग्राफी कराने के निर्देश दिए हैं।  प्रदर्शनकारी किसानों से निपटने के लिए सभी ड्यूटी स्थल पर आंसू गैस और वाटर कैनन की 2-2 गाड़ियों की भी तैनाती की गई है। इनके अलावा वहां वज्र वाहन, फायर ब्रिगेड, क्रेन, एंबुलेंस भी तैनात किए गए हैं। दंगा जैसे हालात से निपटने के लिए इन जगहों पर तीन रिजर्व पुलिस बल एंटी रायट उपकरणों के साथ मौजूद रहेंगे। इसके अलावा दो रिजर्व पुलिस बल को दंगा विरोधी उपकरणों के साथ तैयार रहने को कहा गया है।