योगी एक्शन: मैरिज ग्रांट और फैमिली बेनिफिट स्कीम में बड़े फर्जीवाड़े मामले में 19 लेखपाल निलंबित

Read Time:2 Minute, 31 Second

मैरिज ग्रांट और फैमिली बेनिफिट स्कीम के फर्जीवाड़े में अब तक कानपुर के डीएम ने बड़ी कार्रवाई की है। सदर तहसील के 19 लेखपालों को निलंबित कर दिया गया है। वर्तमान एवं पूर्व अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी, पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी, दोनों विभागों के लेखाकारों, दो नायब तहसीलदारों एवं तत्कालीन तहसीलदार एवं वर्तमान ए.सी.एम. II के विरूद्ध विभागीय कार्रवाई की अनुशंसा की गयी है। आठ कानूनगो के खिलाफ सख्त अनुशासनात्मक कार्रवाई की सिफारिश की गई है।

जांच में पाए गए दोषी :

जांच प्रतिवेदन में सदर तहसील में पदस्थापित 19 लेखपालों को हितग्राहियों को लाभान्वित करने के उद्देश्य से अपात्र आवेदनों पर सूचना देने का दोषी पाया गया है।

एसडीएम सदर को लेखाकारों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई के आदेश दिए गए हैं। वर्तमान पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी लालमणि मौर्य, पूर्व अजीत प्रताप सिंह, वर्तमान अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी वर्षा अग्रवाल, पूर्व प्रियंका अवस्थी, लेखाकार संजय पांडेय व नीरज मेहरोत्रा पर समुचित पर्यवेक्षण व लापरवाही बरतने पर विभागीय कार्रवाई के लिए अपर मुख्य सचिव को पत्र लिखा है। नायब तहसीलदार विराग करवरिया और अरसला नाज (वर्तमान में हरदोई के नायब तहसीलदार) को अपात्र की अनुशंसा जिला स्तरीय समिति को भेजने का दोषी पाया गया है। तत्कालीन तहसीलदार एवं एसीएम द्वितीय अमित कुमार गुप्ता के विरुद्ध विभागीय कार्रवाई हेतु अपर मुख्य सचिव एवं अध्यक्ष राजस्व मंडल की नियुक्ति पत्र लिखा गया है। डीएम आलोक तिवारी ने बताया कि लेखपालों को निलंबित करने के आदेश दे दिए गए हैं।

error: Content is protected !!
Hi !
You can Send your news to us by WhatsApp
Send News!