डीआईजी ऑफिस के बाहर 16 साल की लड़की ने आत्महत्या की कोशिश, पुलिस पर लगाए आरोप

Read Time:2 Minute, 50 Second

इंदौर के डीआईजी ऑफिस के बाहर 16 साल की एक लड़की ने खुदकुशी करने की कोशिश की है, जिसके बाद वहां के कुछ लोगों ने उसे बचा लिया। दरअसल, बताया जा रहा है कि किशोरी लंबे समय से छेड़छाड़ से परेशान है और अब उसके साथ गंदा काम कर उसका वीडियो वायरल करने की बात कर रहे हैं। साथ ही पुलिस ने उसकी शिकायत भी दर्ज नहीं की। नाबालिग का आरोप है कि पलासिया पुलिस ने छेड़छाड़ का मामला दर्ज नहीं किया, जबकि पुलिस इस आरोप से इनकार कर रही है।

सामने आ रही खबर के मुताबिक इस घटना के बाद नाबालिग की शिकायत पर महिला थाने में छेड़छाड़ और मारपीट का मामला दर्ज किया गया है। साथ ही पुलिस ने चारों आरोपितों को भी गिरफ्तार कर लिया है। पलासिया निवासी 16 वर्षीय किशोरी शुक्रवार दोपहर डीआईजी कार्यालय पहुंची, जहां उसने केरोसिन निकाल कर अपने ऊपर डाल लिया और जोर-जोर से चिल्लाने लगी। इसके बाद वहां मौजूद लोगों और पुलिसकर्मियों ने उसके हाथ से मिट्टी का तेल छीन लिया और उसे काफी समझाया।

नाबालिग लड़की का आरोप है कि नितिन सोनकर, विकास सोनकर, यश सोनकर और शुभम सोनकर उसके साथ आए दिन छेड़छाड़ करते हैं और उसके साथ गंदा काम कर वीडियो वायरल करने की धमकी देते हैं। इससे परेशान होकर किशोरी ने इस बारे में अपनी मां को बताया। मामा समझाने गए तो लड़कों ने उनके साथ मारपीट की। लड़की आगे बताती है कि उसने मुझे और मां को भी पीटा। इसके बाद नानी के घर आकर चारों ने छेड़छाड़ की।

धमकी दी कि शिकायत की तो उसे खत्म कर देंगे। चारों की धमकियों और छेड़छाड़ से परेशान होकर मैंने स्कूल जाना बंद कर दिया। पलासिया थाने में कई बार शिकायत करने गए, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। इस बारे में बताते हुए पलासिया टीआई संजय बैस ने बताया कि दोनों परिवारों के बीच विवाद है, मारपीट भी हुई। नाबालिग ने पहले कभी छेड़छाड़ की शिकायत नहीं की है। शिकायतों को नहीं सुनना गलत है।

error: Content is protected !!
Hi !
You can Send your news to us by WhatsApp
Send News!