बांग्लादेश में सोमवार देर रात दुनिया की सबसे बड़ी रोहिंग्या मुसलमानों की बस्ती में अचानक आग लग जाने से हजारों अस्थायी घर जलकर खाक हो गए। कॉक्स बाजार इलाके में बने बालूखाली शिविर में यह आग लगी, जो कुछ ही देर में काफी बड़े इलाके में फैल गई। स्थानीय अधिकारियों के मुताबिक, घटना में अब तक 15 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, 400 से ज्यादा लोग लापता हैं।

प्लास्टिक शीट से बने हुए हैं शरणार्थी शिविर
शरणार्थी शिविर में अस्थायी आवास टेंट, प्लास्टिक शीट और मोटी पॉलीथिन शीट के बने हुए हैं। आग लगने के पीछे के कारणों का अभी तक पता नहीं चल पाया है। कॉक्स बाजार में संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी की प्रवक्ता लुइस डोनोवान ने बताया है कि हादसे की सूचना मिलते ही बचाव दल सक्रिय हो गए और उन्होंने जान-माल के बड़े नुकसान को बचा लिया। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार हादसे में कई शरणार्थियों के जलकर मरने की आशंका है।

दुनिया की सबसे बड़ी शरणार्थी बस्ती
संयुक्त राष्ट्र ने मंगलवार को कहा कि बांग्लादेश में दुनिया की सबसे बड़ी शरणार्थी बस्ती में हजारों रोहिंग्याओं के घर आग लगने से तबाह हो गए हैं। 2017 में म्यांमार से भागकर आए दस लाख से ज्यादा रोहिंग्या शरणार्थी कॉक्स बाजार और इसके आसपास के शिविरों में रहते हैं। संयुक्त राष्ट्र और कई मुस्लिम देश रहने-खाने में इनकी मदद करते हैं।

error: Content is protected !!