12 किलोमीटर सफर हुआ कम, छजोट गाँव में हुआ शिकारी-मांडका-भराडा सड़क संगम

तीसा अनिल कुमार। कौन कहता है कि आसमां में सुराख नहीं हो सकता, एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारों। इस कहावत को चरितार्थ कर दिखाया है चुराह के विधायक व विधानसभा उपाध्यक्ष हंसराज ने जिनके अथक प्रयासों से आज शिकारी – मांडका सडक आगे बढ़ती हुई अपने छिजोठ गाँव मे जाकर भराड़ा – टिकरीगढ़ सड़क से जुड़ गई।

इस सड़क के निर्माण से आधा दर्जन के करीब पंचायत के लोगों को स्वास्थ्य, कृषि व बागवानी और पर्यटन क्षेत्र को बढ़ावा मिलेगा। वहीं स्थानीय लोगों को रोजगार के सुनहरे अवसर प्राप्त होंगे। सड़क के जुड़ने के साथ अब भराडा से मुख्यालय तीसा से दूरी महज 21 किलोमीटर रह जायेगी जो पहले 33 किलोमीटर थी।

स्थानीय जनता का कहना है कि सड़क के साथ कई स्थान ऐसे हैं, जिन्हे पर्यटन की दृष्टि से भी फायदा मिलेगा लोगों का कहना है कि इस सड़क की राह देखते देखते आज हम बुढापे की दहलीज पर पहुँच चुके हैं। सडक के छिजोठ गाँव तक पहुंचाने में सभी गांवों के लोगों का सहयोग भी बहुत सराहनीय रहा है, जिन्होनें अपनी जमीन की परवाह न करते हुए सड़क को आगेे अपने मुकाम तक पहूँचाया। सड़क के गाँव पहुँचते ही खुशी लहर दौड़ गई, आखिर हो भी क्यों ना? क्योंकि लोग सदियों से इस रोड़ की राह देखते रहे हैं और इस मौक़े पर गांववालों ने मशीन ऑपरेटर को फूल-मालाएं पहनाकर सम्मानित किया।

गाँव वासियों ने इस पुनीत कार्य को करवाने के लिए विधानसभा उपाध्यक्ष एवं विधायक चुराह डॉ हंसराज का दिल की गहरायों से हार्दिक अभिनन्दन किया और उनके सम्मान मे नारे भी लगाए। इस मौक़े पर महामंत्री अनुसूचित जाति मोर्चा भाजपा मण्डल चुराह तेज सिंह, पार्टी के सम्मानित कार्यकर्ता व समस्त इलाकावासी उपास्थित रहे।

उधर रोड जुड़ने की खबर से विधान सभा उपाध्यक्ष हंसराज भी काफी खुश दिखे उन्होंने कहा कि रोड का जुड़ना मेरे लिए एक सपने के समान था लेकिन स्थानीय जनता के भरपूर सहयोग से हम आज इस मुकाम पर पहुँच चुके हैं जिस के लिए में समस्त जनता का काफी शुक्रगुजार हूँ

error: Content is protected !!