Right News

We Know, You Deserve the Truth…

शारीरिक शिक्षक और प्रिंसिपल की बेटियों की ब्लैकमेलिंग से तंग आकर छात्रा ने की आत्महत्या

लुधियाना रोड पर स्थित डे बोर्डिंग एसबीआरएस गुरुकुल स्कूल में शारीरिक शिक्षा अध्यापक व प्रिसिपल की बेटी की ब्लेकमेलिग से परेशान 11वीं की छात्रा ने घर में फंदा लगाकर जान दे दी। हालांकि अपने हाथ से लिखे सुसाइड नोट में छात्रा ने दोनों को जिम्मेदार ठहराया है। पुलिस ने दोनों के खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने के आरोप में केस दर्ज कर लिया है। मृतका के नाना ने 15 दिन पहले स्कूल में आकर प्रिसिपल हरप्रीत कौर से शिकायत भी की थी कि उनकी बेटी व डीपी (शारीरिक शिक्षा अध्यापक) उनकी दोहती को परेशान कर रहे हैं प्रिसिपल ने आगे से ऐसा न होने का भरोसा दिया था लेकिन ये सिलसिला बंद नहीं हुआ।

आखिर परेशान होकर छात्रा ने आत्महत्या कर ली, लेकिन पूरे मामले के राज अपने मोबाइल फोन में छोड़ गई। इसका जिक्र उसने सुसाइड नोट में भी किया है।

गांव तलवंडी भंगेरिया में अपने नाना के पास रहकर 17 साल की छात्रा खुशप्रीत कौर लुधियाना रोड स्थित एसबीआरएस गुरुकुल स्कूल की 11वीं कक्षा की छात्रा थी। उसने अपने नाना के घर में वीरवार की शाम को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

थाना मैहना पुलिस ने शव कब्जे में लेकर स्कूल के डीपी व प्रिसिपल की बेटी के खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने के आरोप में मामला दर्ज कर लिया है। क्या है मामला

जांच अधिकारी एएसआइ लखबीर सिंह ने बताया कि शिकायतकर्ता व मृतका के नाना जसवीर सिंह निवासी तलवंडी भंगेरिया ने बताया कि उनकी 17 वर्षीय दोहती खुशप्रीत कौर पुत्री गुरप्रीत सिंह के माता-पिता कनाडा में रहते हैं। खुशप्रीत कौर जब पांच महीने की थी, तभी वह कनाडा से अपने पास ले आए थे, उनके पास रहकर ही वह पढ़ रही थी। परिवार में उसकी पत्नी व दोहती खुशप्रीत कौर समेत तीन लोग ही रहते थे।

उन्होंने बताया कि खुशप्रीत ने उसे कई बार बताया कि स्कूल का डीपी व प्रिसिपल की बेटी उसे परेशान करते हैं। खुशप्रीत कौर की शिकायत लेकर वे 15 दिन पहले स्कूल की प्रिसिपल हरप्रीत कौर से मिले भी थे। खुशप्रीत कौर पिछले डेढ़ साल से स्कूल के हास्टल में रह रही थी, लेकिन दो महीने पहले ही वे कोरोना काल में उसे घर ले आए थे। शिकायत करने पर प्रिसिपल हरप्रीत कौर ने उन्हें भरोसा दिलाया था कि आगे से ऐसा नहीं होगा। इसके बावजूद दोनों ने खुशप्रीत कौर को परेशान करना बंद नहीं किया। इसका जिक्र खुशप्रीत कौर ने अपने पत्र में भी किया है। परेशान होकर वीरवार की सायं खुशप्रीत ने घर में ही फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। थाना मैहना के जांच अधिकारी ने बताया कि उन्होंने मृतका के हाथों लिखे हुए सुसाइड नोट के आधार पर डीपी अमनदीप चाहल व स्कूल प्रिसिपल की बेटी रवलीन कौर के खिलाफ धारा 306 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। उनकी गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करवाने के उपरांत परिजनों को सौंप दिया।

मुझे कुछ नहीं है पता : प्रिसिपल

स्कूल प्रिसिपल हरप्रीत कौर ने बताया कि उक्त घटना बड़ी है। उन्हें खुशप्रीत कौर को परेशान किए जाने की कोई जानकारी नहीं है। न ही कभी किसी ने शिकायत की है। उधर पता चला है कि खुशप्रीत कौर की आत्महत्या के बाद से ही प्रिसिपल परिवार सहित भूमिगत है।

मोबाइल से खुल सकते हैं कई अहम राज

खुशप्रीत कौर ने अपने सुसाइड नोट में लिखा है ‘डेटिग इज नोट क्राइम’ साथ ही दोनों पर ब्लेकमेलिग का आरोप लगाया है। सुसाइड नोट में अपने मोबाइल फोन का पासवर्ड लिखने के साथ ही ये भी लिखा है कि मोबाइल फोन में स्क्रीन शाट का फोल्डर सारे राज खोल देगा। सब कुछ स्पष्ट हो जाएगा। पुलिस ने मोबाइल फोन अपने कब्जे में में लिया है।


Join 6,215 other subscribers

error: Content is protected !!