कार के बोनेट में छिपा रखे तो 1.74 करोड़ के नोट, आग लगी तो हुआ खुलासा

वाराणसी से कैश लेकर मुंबई जा रहे तीन लोगों को मध्य प्रदेश की कुरई पुलिस ने रविवार शाम सिवनी-नागपुर नेशनल हाइवे से गिरफ्तार किया है। तीनों युवक इनोवा कार से करीब 1.74 करोड़ नकद लेकर मुंबई जा रहे थे। चेकपोस्ट पर जांच से बचने के लिए उन्होंने नोटों के बंडल को कार की बोनट में इंजन के पास छिपाया था। नोट जलने लगे तो मामले का खुलासा हो गया।

पकड़े गए सुनील वर्मा (35) कुसिया बाहरिया गांव जौनपुर, हरिओम यादव (38) रोशनपुरा गांव आजमगढ़ और ग्यास बाबू (42) चौधरी सराय गांव, बदायूं का रहने वाले है। वाराणसी से मुंबई जाते समय बम्हनी गांव के पास नोटो के कारण कार के बोनट में आग लग गई। तीनों ने जैसे ही नोटों के बंडल बाहर निकाले, 500-500 के अधजले नोट सड़क पर बिखर गए। नोटों को देखकर ग्रामीणों की भीड़ जुटने लगी तो अधजले नोटों को मौके पर छोड़कर आरोपित कार से भागने लगे। सड़क पर कार से नोट हवा में उड़ते देख फैक्ट्री से लौट रहे मजदूर भी आश्चर्य में पड़ गए। मजदूरों ने कार की ओर दौड़ लगाई लेकिन कार आगे निकल गई।

ग्रामीणों से इसकी सूचना मिलते ही पुलिस ने नाकाबंदी की और तीनों को कुरई के पास से गिरफ्तार कर लिया। कार से 1.74 करोड़ रुपये नकद मिले। कुरई टीआई मनोज गुप्ता ने बताया कि आरोपितों से पूछताछ की जा रही है। आरोपितों ने पुलिस को बताया कि बनारस के एक व्यापारी के रुपये लेकर मुंबई जा रहे थे। वहां से सोना लेकर बनारस ले जाते। 

पकड़े गए युवकों ने बताया कि कई सालों से मुंबई में ड्राइवरी करते हैं। सराफा व्यवसाय से जुड़े लोगों के कहने पर कैश यहां से वहां ले जाते थे। पुलिस इनके नेटवर्क की पड़ताल कर रही है। पुलिस के मुताबिक डेढ़ लाख के नोट जले हैं।

दोनों युवकों के घर से ली जा रही जानकारी
1.74 करोड़ की नकदी के साथ मध्य प्रदेश में पकड़े गए आजमगढ़ के रोशनपुरा गांव के हरिओम यादव ने पुलिस को अपना पता गलत बताया है। आजमगढ़ पुलिस के मुताबिक रोशनपुर नाम के दो गांव हैं और दोनों में हरिओम नाम के एक-एक व्यक्ति रहते हैं। जहानागंज के रोशनपुर गांव के हरिओम राजभर अपने घर में मिले। वहीं, तरवां थाना क्षेत्र के रोशनपुर गांव के हरिओम यादव बहनोई के यहां लखनऊ में हैं। आजमगढ़ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि आगे की जांच मध्य प्रदेश पुलिस की सूचना मिलने के बाद की जाएगी।

वहीं, जौनपुर के जलालपुर थाना क्षेत्र के कुसिया बहरिया गांव के लोग सुनील वर्मा की गिरफ्तारी की खबर से सकते में हैं। सुनील के बारे में स्वजन व पड़ोसी यही जानते हैं कि वह मुंबई में 15 वर्षों से टैक्सी चलाता है। तीन भाइयों में सबसे छोटा सुनील लाकडाउन में इनोवा कार से घर आया था। गांव में पत्नी, दो बच्चे और मां है। पुलिस के मुताबिक सुनील का जिले में कोई आपराधिक रिकार्ड नहीं है।

SHARE THE NEWS:
error: Content is protected !!